मामले का समाधान पोर्टल से होगा:भू-समाधान पोर्टल से भूमि विवाद की होगी मॉनिटरिंग

डुमरांव24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डुमरांव थाना ( फाइल ) - Dainik Bhaskar
डुमरांव थाना ( फाइल )

भूमि-विवाद के मामूली मामले हल नहीं होने पर अक्सर प्रशासन के लिए चुनौती बन जाते हैं। खासकर, थाना स्तर से इस तरह के मामलों का समाधान नहीं किये जाने की शिकायतें मिलती रहती है। सीओ कार्यालय से संबंधित मामला कहकर आवेदकों को टरका दिया जाता है। ऐसे मामलों में अब थाना के द्वारा ही आवेदनों को पोर्टल पर ऑनलाइन करना होगा। इसके लिए भू-समाधान पोर्टल बनाया गया है। भूमि-विवाद के सभी तरह के मामले का समाधान पोर्टल से होगा।

मैनुअल आवेदन की भी इस पोर्टल पर इंट्री की जायेगी। एडीएम पितेश्वर प्रसाद ने बताया कि आवेदनों को पोर्टल पर लोड करने की पहल की गयी है। ऑनलाइन करने का प्रावधान थाना स्तर पर होगा। इसके तहत डुमरांव थाना में व्यवस्था किया गया है। इसके लिए तकनीकी प्रशिक्षण कर्मियों को दिया गया है। आवेदनों को हर हाल में पोर्टल पर अपलोड करना होगा।

20 दिनों पर राज्य स्तर पर समीक्षा
मामलों के समाधान के लिए थाना स्तर से लेकर राज्य स्तर के अधिकारियों को जिम्मेवारी दी गयी है। हर 20 दिनों के बाद राज्य स्तर पर मामले की समीक्षा की जायेगी।

सीओ करेंगे जमीन का मिलान
पोर्टल पर दर्ज शिकायत पत्र के खाता-खेसरा का मिलान राजस्व रिकार्ड से किया जायेगा। इसकी अंचल अधिकारी के स्तर पर जांच होनी चाहिए। सीओ संबंधित भूमि का खाता-खेसरा का राजस्व अभिलेख से जांच करने के बाद आगे अग्रसारित करेंगे। इसके बाद अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, लोक शिकायत निवारण, जिला पदाधिकारी, पुलिस अधीक्षक के स्तर पर सुनवाई कर मामले का निपटारा किया जाएगा। बक्सर के डुमरांव में संचालित हो चुका हैं ।

खबरें और भी हैं...