कृषि समन्वयकों के साथ बैठक:उड़द बीज के लिए आए कम आवेदन, कृषि समन्वयकों को लगी फटकार

बक्सर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गरमा फसल के लिए अनुदानित दर पर बीज प्राप्ति के लिए किसानों के कम आवेदन प्राप्त होने को लेकर जिला कृषि पदाधिकारी ने बुधवार को जिला कृषि संयुक्त भवन में सभी बीएओ और कृषि समन्वयकों के साथ बैठक की।

बैठक में बीज के लिए आए कम आवेदन को लेकर कृषि समन्वयकों की जमकर फटकार लगाई। कहा कि किसानों को अनुदान पर बीज लेने के लिए प्रेरित करें। बैठक में सबसे पहले उन्होंने प्राप्त ऑनलाइन आवेदन की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि गरमा मौसम में मूंग, उड़द बीज पर 50 से 80 प्रतिशत का अनुदान देय है।

वहीं प्रत्यक्षण के लिए सौ प्रतिशत अनुदान है। डीएओ मनोज कुमार ने कहा कि 15 फरवरी तक किसान ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए उन्होंने सभी कृषि समन्वयकों व बीएओ को किसानों को जागरूक करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि अब तक महज 1349 किसानों ने महज 97.78 क्विंटल के लिए आवेदन किया है। योजना के तहत पहले आओ-पहले पाओ के तर्ज पर किसानों को लाभ देने का प्रावधान किया गया है।

उर्वरक वितरण पर निगरानी करने का निर्देश

जिले में हर हाल में किसानों को सरकारी दर पर उर्वरक उपलब्ध होना चाहिए। जीरो टॉलरेंस नीति का पालन कराना सुनिश्चित करें। अपने पंचायतों में खुद की निगरानी में यूरिया, डीएपी समेत अन्य उर्वरक का वितरण कराएं। अगर कोई विक्रेता या डीलर खाद की कालाबाजारी कर रहा है तो उस पर तत्काल प्रभाव से न्याय संगत कार्रवाई करें। किसी भी पंचायत में खाद की कालाबाजारी होने की शिकायत मिलने पर कृषि समन्वयकों व अन्य संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही होगी।

खाद बिक्री के दौरान किसानों का भी सत्यापन करें, ताकि गलत लोगों व बिचौलिया कोई फायदा नहीं उठा सके। बैठक में सहायक निदेशक उद्यान सुपर्णा सिन्हा, आत्मा के उप परियोजना निदेशक बेबी कुमारी के अलावा सभी बीएओ व कृषि समन्वयक मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...