राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन:2,22,13,768 करोड़ का सेटेलमेंट 711 मुकदमों का कराया सुलहनामा

बक्सर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
समारोह को संबोधित करते जिला जज। - Dainik Bhaskar
समारोह को संबोधित करते जिला जज।

हुजूर आपसी सुलह कर इस केस को खत्म करने आए हैं। काहे की मेरा पैसा वही मिल गया जहां गिरा था। कुछ इसी तरह से 24 साल पहले केस करने वाले मोती सिंह ने राष्ट्रीय लोक अदालत के बेंच 14 वीं में न्यायिक दंडाधिकारी रिंकी कुमारी के समक्ष अपनी बातों को रखा। जिसके बाद 24 साल से चल रहे वाद का मामला आपसी सुलहनामा के बाद निष्पादित हो गया।

मामला वर्ष 1999 की है। जहां नगर थाना बक्सर में मोती सिंह द्वारा मझरिया निवासी शत्रुधन सिंह के विरुद्ध केस दर्ज कराई थी। जिसमें उन्होंने जिक्र किया था कि शत्रुधन सिंह मेरे मोटर पार्ट्स के दुकान पर आए और दुकान पर बैठे मेरे रिश्तेदार के पॉकेट से 515 रुपए निकाल लिए। जिसके विरूद्ध 11 अगस्त 1999 को थाना में एफआईआर दर्ज करा दी।

ऐसे में करीब 24 सालों से चल रहे इस केस में सुलहनिय आधार पर पूर्ण विराम लग गया। इस दौरान सदस्य के रूप में ज्योति प्रकाश सिंह व अधिवक्ता उपस्थित रहें। इस तरह लंबे समय से चल रहे केस का राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से खत्म हुआ। वही पन्द्रहवीं बेंच में हमजाआलम न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रधान श्रेणी की मौजूदगी में यूको बैंक से जुड़े नौ मामलों का निष्पादन किया गया।

जहां बैंककर्मी अश्वीनी की मौजूदगी में एक लाख नौ हजार आठ सौ जमा कराए गया। हालांकि इस बैंक से आठ सौ लोगों नोटिस भेजा गया था। यही ओवरसीज बैंक प्रबन्धक अभिमन्यु रहें। जहां एक भी लोग नही पहुंचे। इसी तरह दोपहर तक बीएसएनएल के पांच मामलों का निष्पादन किया गया।

जिला के जज ने कहा- लोक अदालत मुकदमे के निपटारे का सुलभ रास्ता है

जिला विधिक सेवा प्राधिकार, बक्सर के तत्वावधान में शनिवार 14 मई को वर्ष 2022 की द्वितीय राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन अंजनी कुमार सिंह, जिला एवं सत्र न्यायाधीश -सह-अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकार, बक्सर, जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बबन ओझा, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम धीरेंद्र बहादुर सिंह व्यव्हार न्यायालय, बक्सर, और उपस्थित अन्य गणमान्य लोगों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

इस तरह लोक अदालत पूर्वाहन साढ़े दस बजे शुरू की गई। अपराह्न 5 बजे तक चले इस लोक अदालत में विभिन्न वाद के 711 मामले का निपटारा कराया गया।जिला न्यायाधीश ने कहा कि, लोक अदालत सुलभ और एक ही दिन में मुकदमे के निपटारे का सुलभ रास्ता है।

कोई भी व्यक्ति अपने वाद का निपटारा सुलह समझौते के माध्यम से करा सकता है। मंच संचालन कर रहे अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश -सह-सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकार, धर्मेंद्र कुमार तिवारी ने कहा कि इस अवसर को हम लोग एक राष्ट्रीय पर्व के तौर पर मनाते हैं।

चार सौ दस मामले का हुआ निष्पादन

राष्ट्रीय लोक अदालत में बैंक के 410 व भारत संचार निगम लिमिटेड के 5, आपराधिक 301 वाद, चेक बाउंस के 07, मोटर वाहन अधिनियम के 3, श्रम अधिनियम के 0, विद्युत वाद के 57 मामले का निपटारा कराया गया। जिले के विभिन्न बैंकों ने 410 मामलों में हुए निष्पादन में इस दौरान दो करोड़ बाइस लाख तेरह हजार सात सौ अरसठ रुपए की रिकवरी किया।

मौके पर राजेश कुमार त्रिपाठी, रिंकी कुमारी, डिम्पी कुमारी, सीमा कुमारी, रमेश कुमार, राकेश रंजन सिंह, अविनाश शर्मा, आशुतोष कुमार सिंह, कमलेश सिंह देव, मुक्तेश मनोहर, बृजकिशोर सिंह, विवेक राय, नितिन त्रिपाठी,अवनींद्र प्रकाश, राकेश रंजन सिंह, हमजा आलम, पैनल अधिवक्ता रंग बहादुर तिवारी, विष्णु दत्त दिवेदी, ज्योति प्रकाश सिंह, आनंद रंजना, जितेंद्र कुमार सिन्हा,दीपिका केशरी, कुमारी अरुणिमा, कार्यालय कर्मी सुधीर कुमार, दीपेश कुमार, सुन्दरम, मनोज, अकबर, सुनील, हरेराम, कवींद्र पाठक समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...