बक्सर में गंगा नदी में डूबा किशोर:नहाने के लिए गया था, पैर फिसला तो नदी में बह गया; तलाश जारी

बक्सर15 दिन पहले
नदी किनारे लगी लोगों की भीड़।

बक्सर में जितिया व्रत के दिन ही एक 16 वर्षीय बेटा गंगा नदी में डूब गया है। सूचना पर पहुंचे BDO और CO द्वारा लड़के को पानी मे गोताखोर और जाल के माध्यम से ढूंढा जा रहा है। वहीं इस घटना के बाद से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। घटना के बाद से ही पूरे इलाके में कोहराम मचा हुआ है। वहीं लोगों में प्रशासन के खिलाफ काफी आक्रोश भी देखा गया। ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासन केवल जिला मुख्यालय के ही घाट पर सुरक्षा के इंतजाम किए गए थे। ग्रामीण क्षेत्र के घाटों पर ध्यान नहीं दिया गया।

घटना रविवार की शाम 5 बजे की बताई जा रही है। सिमरी थाना क्षेत्र के केशोपुर पंचायत स्थित हनुमान घाट का है। जहां सिमरी प्रखंड अंतर्गत दर्जनों गंगा घाटों पर प्रत्येक साल की तरह इस पर्व पर स्नान व कथा सुनने को श्रद्धालुओं की भीड़ उमडी हुई थी। लेकिन सुरक्षा को लेकर अंचल प्रसाशन द्वारा कोई व्यवस्था नहीं किया गया था।

इस सम्बंध में जानकारी देते हुए स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि तीन लड़के स्टीमर के समीप स्नान कर रहे थे। तभी तीनो डूबने लगे । इस दौरान दो युवकों को बचा लिया गया। लेकिन एक लापता हो गया। लापता युवक के बारे में बताया जा रहा है कि वह सिमरी खैरापट्टी गांव निवासी मरकट कमकर का पोता व सरोज कमकर का 16 वर्षीय बेटा धीरेन्द्र खरवार है। मां रीना देवी पुत्र वियोग में बेसुध पड़ी हुई है।

बता दें कि आज पुत्र की दीर्घायु की कमाना को लेकर बक्सर जिले के अलावे पड़ोसी जिले से पहुंच बक्सर के विभिन्न घाटों पर एक लाख से ऊपर महिलाओ ने स्नान कर कथा सुनने का कार्य किया।एक तरफ बक्सर शहर में आज पूरे दिन ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त दिखी तो वही ग्रामीण क्षेत्रो के घाटों पर पुलिस प्रशासन और गोताखोरों की उपस्थिति नदारद थी। इस सम्बंध में बीडीओ शशिकांत शर्मा को जब घटना की जनाकारी मिली तो स्थल पर जाकर निरीक्षण किए। उन्होंने बताया कि अभी तक लपाता युवक का पता नहीं चला है। सुबह एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया है।

खबरें और भी हैं...