महिला की मौत के बाद परिजनों ने शरीर दान किया:शरीर को DMCH के एनाटाॅमी विभाग को सौंपा गया, छात्रों को पढ़ाई में मिलेगी मदद

दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दरभंगा के अल्लपट्टी में एक महिला की मृत्यु के बाद उसके मृत शरीर को मेडिकल के छात्रों के अध्ययन के लिए डीएमसीएच को सौंप दिया गया। ताकि उसके मृत शरीर पर छात्र अपने अध्ययन पूरा कर सके। बता दें कि चंद्रभूषण पाठक पुत्र शारदानंद पाठक की 90 वर्षीय मां की मृत्यु हो गई।

उनकी मां की इच्छा के अनुसार चंद्रभूषण पाठक ने अपनी मां के मृत शरीर को विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु उनके मृत शरीर को डीएमसीएच के एनाटॉमी विभाग को दान कर दिया। मृतक गुलेश्वरी देवी उम्र 90 वर्ष इंदिरा कॉलोनी, नाग मंदिर के सामने, अल्लपट्टी, दरभंगा की निवासी है। वहीं एनाटाॅमी विभाग के डॉक्टर सुधीर कुमार कर्ण ने कहा कि देह दान बहुत ही पुनीत कार्य है। इसके बिना मेडिकल की पढ़ाई हो ही नहीं सकती। इसलिए यह दान काफी आवश्यक है।

इस तरह के पुनीत कार्य होने चाहिए। ऐसे ही लोगों में जागरूकता पड़ेगा। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति के शरीर को जला देने या दफना देने से कुछ नहीं होता बल्कि दान देने से किसी के ज्ञान में वृद्धि होती है। ददाची देहदान समिति के अध्यक्ष ने कहा कि नए नए छात्रों को मृत शरीर पर ही ऑपरेशन करना सिखाया जाता है। इसके बाद ही छात्र आगे चलकर ऑपरेशन कर पाते हैं।