संक्रमण ने पसारा पैर:डरहार, मुशहरी व होररपट्टी में 13 दिनों में 256 को हुई डायरिया, दो की मौत, दहशत ऐसी कि लोग पी रहे गर्म पानी

दरभंगा24 दिन पहलेलेखक: गजेंद्र सिंह और चंद्र प्रकाश कर्ण ‘टिंकु’
  • कॉपी लिंक
नहर में जमा गंदा पानी, इसी से डायरिया फैलने की आशंका। 
इधर डायरिया की मरीज। - Dainik Bhaskar
नहर में जमा गंदा पानी, इसी से डायरिया फैलने की आशंका। इधर डायरिया की मरीज।

नहर निर्माण के दाैरान बहादुरपुर के डरहार मुशहरी टाेला के समीप नहर में जमे पानी के दूषित हाेने के कारण शहर से सटे बहादुरपुर प्रखंड के मुशहरी टाेला, हरिपट्‌टी व डरहार गांव में वार्ड 4 से लेकर 13 और गोविंदपुर गांव के कुछ हिस्से के लोग डायरिया की चपेट में आए गए हैं। पिछले 13 दिनाें में डायरिया से 256 लाेग पीड़ित हाे चुके है। मुशहरी टाेला के 56 वर्षीय सुंदर सदा की सहित दाे की मौत डायरिया से हाे चुकी है। मुखिया पूजा चौधरी ने कहा कि नहर के पक्कीकरण के लिए मुशहरी से लहेरियासराय चट्टी तक 3 माह पानी राेक दिया गया था, गंदा पानी नाले से डरहार पहुंचा, जिससे संक्रमण फैला है।

आशंका यह भी कि नल-जल की लीक पाइप में दूषित पानी प्रवेश कर गया, जिसे पीकर लोग बीमार हुए। इधर, ग्रामीणों का कहना है कि अब तक 400 से 500 लोग डायरिया से ग्रसित हो चुके हैं। कुछ लोग चोरी-छीपे प्राइवेट अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। नहर पक्कीकरण के लिए मुशहरी से लहेरियासराय चट्टी तक 3 माह पानी राेका, गंदा पानी नाले से डरहार पहुंचा, जिससे संक्रमण फैला- आशंका यह भी कि नल-जल की लीक पाइप में दूषित पानी प्रवेश कर गया, जिसे पीकर लोग बीमार हुए

मरीजों काे उल्टी, पेट खराब और शरीर में कमजोरी हो रही है
मुशहरी टोला की सुलेखा देवी, अविनाश कुमार, लालती देवी, मुन्नी कुमारी आदि डायरिया से पीड़ित हैं। 12 वर्ष के अविनाश कुमार के परिजन ने बताया कि तीन दिन से वह बीमार चल रहा है। उल्टी, पेट खराब व शरीर में कमजोरी है। पीएससी में स्लाइन चढ़ाया गया। फिर दवा देकर घर भेज दिया गया। वहीं, लालती देवी बताती हैं कि छठ पर्व से पहले से ही बीमार है। बुखार, पेट खराबी के साथ ही कमजोर है।

जमा पानी खाेला, पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव नहीं
पवन चौधरी ने बताया कि एडीपीओ अमित कुमार, विवि थाना, लहेरियासराय थाना व बहादुरपुर थाना की पुलिस ने दो दिन पहले नहर में जमा पानी को खोला दिय। आश्वासन दिया कि ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करवा देंगे। पर नहीं किया गया।

डायरिया मरीजों के स्टूल की जांच के लिए डीएमसीएच सैंपल भेजा गया है। वहीं पानी की जांच के लिए सैंपल पीएचईडी विभाग को भेजा गया है। जिसकी रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है। अनुमान किया जा रहा है कि यह रोटावायरस से फैल रहा है। ऐसा मेडिकल साइंस कहता है।
-डॉ. अनिल कुमार, सिविल सर्जन

इस तरह बढ़ती गई मरीजाें की संख्या
25 अक्टू. 31
26 अक्टू. 48
27 अक्टू. 24
28 अक्टू. 08
01 नवंबर 50
02 नवंबर 23
03 नवंबर 26
04 नवंबर 26
05 नवंबर 20

खबरें और भी हैं...