ईद कल ईदगाह ‘लाॅक’ / घर में ही सुबह 11 बजे से पूर्व पढ़े 4 रिकत चाश्त की नमाज

4 Rikat Chasat prayers before 11 am at home
X
4 Rikat Chasat prayers before 11 am at home

  • कोरोना वायरस को लेकर मस्जिदों में नहीं होगी ईद पर सामूहिक रूप से होने वाली ‘वाजिब’ की नमाज, ईद को लेकर बाजार गर्म
  • गांधी मैदान में भी ईद पर होने वाली नमाज को लेकर प्रशासन द्वारा नहीं जारी किया गया निर्देश

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

गया. खुशियों का पर्व “ईद’कल सोमवार को हैं। 30 दिनों तक रोजा मुकम्मल रखने की खुशी में अल्लाह ने अपने बंदों को ईनाम के तौर पर ईद “खुशी’ की नमाज भेंट की है। हर वर्ष एक साथ सामूहिक रूप में मस्जिदों व ईंदगाह में ईद की नमाज होती थी, पर इस बार देश कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन हैं। ईदगाह व मस्जिदों का द्वार अकीदतमंदों के लिए “लॉक’हैं। सामूहिक पूजा व नमाज पर रोक हैं।
इस वजह से ईद की नमाज भी जुमे की नमाज की तरह घर पर अदा होगी। मुस्लिम उलेमाओं की माने तो अगर सामूहिक रूप से ईद की नमाज नहीं पढ़ सके तो घर पर ही चार रिकत चाश्त की नमाज अदा करें। सूर्योदय के बाद से लेकर 11:00 बजे के पूर्व तक इस नमाज काे पढ़ लें। इधर गांधी मैदान में भी होने वाले सामूहिक नमाज को लेकर प्रशासन द्वारा कोई दिशा-निर्देश नहीं जारी किया गया है, साथ ही मुकम्मल तैयारी भी नहीं हुई है।
चूड़िया हो या मेहंदी खूब हुई खरीदारी
ईद को लेकर मुस्लिम युवक-युवतियों में खासा उत्साह है। जमकर खरीदारी कर रहे है। चूड़िया हो या मेहंदी, कान की बाली हो या नाक की नथूनी। खानकांह मोनमिया के नाजिर शाह अता फैसल ने बताया कि तीस दिनों तक रोज़े रखने के बाद अब रमजान का पाक महीना समाप्त होने को है। बरकत और रहमत का महीना फिर जल्दी से आए, इसके लिए अल्लाह से इबादत भी की जा रही है। इस बार लॉकडाउन से रमजान का पर्व थोड़ा फीका रहा।
मस्जिदों में होती थी वाजिब की नमाज
मो. फैसल ने बताया कि ईद के दिन मस्जिदों में सामूहिक रूप से वाजिब की नमाज होती थी, पर इस बार लॉकडाउन से माह-ए-रमजान में हर नमाजें घर पर ही हुई, इस वजह से ईद की नमाज भी घर पर पढ़े। घर पर ही चार रिकत चास्त की नमाज पढ़े। सूर्योदय के बाद से 11:00 बजे से पूर्व इस नमाज को अदा करें। इधर ईद को लेकर लच्छेदारी सेवईयां की खूब खरीदारी हुई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना