बिहार में कोरोना विस्फोट, 211 नए मरीज मिले:124 नए केस के साथ टॉप पर पटना, राज्य में एक्टिव मामले हजार के करीब

पटना/गया3 महीने पहले

बिहार में कोरोना फिर डराने लगा है। मंगलवार को राज्य में कोरोना के 211 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिसमें पटना में ही 124 संक्रमित मिले हैं। वहीं, राज्य में अब एक्टिव मामलों की संख्या 885 हो गई। पटना की बेऊर जेल में 45 कैदी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जेल में 6 डॉक्टरों की तैनाती कर दी गई है। तीन की हालत गंभीर है, इन्हें अस्पताल में रखा गया है। दूसरे कैदियों को जेल में ही रखा गया है। वार्ड संख्या-24 को 24 घंटे के लिए सील कर दिया गया है। यहीं के कैदी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।

इधर, गया में कोरोना से 28 साल के युवक की मौत हो गई है। मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उसका इलाज चल रहा था। वह शहर के डेल्हा थाना क्षेत्र का रहने वाला था। युवक की मौत 26 जून को हुई थी। पर उसकी कोरोना जांच रिपोर्ट 27 जून की शाम आई। इसमें वो पॉजिटिव मिला। 4 दिनों में कोरोना से ये दूसरी मौत है। 4 दिन पहले पटना में भी एक मौत हुई थी। बता दें, सोमवार को बिहार में 140 नए पॉजिटिव मामले सामने आए थे, इसमें 125 पटना के थे।

पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए..

गया में एक मौत पहले भी हुई थी

इधर, इससे पहले बीते 24 जनवरी को गया में कोरोना से एक मौत हुई थी। वहीं, युवक की मौत से अस्पताल से लेकर जिला प्रशासन तक सकते में पड़ गया है। अस्पताल प्रशासन भी सजग हो गया है। स्वास्थ्य विभाग के डीपीएम नीलेश कुमार ने बताया कि डेल्हा के युवक को मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसका इलाज चल रहा था। उसे पहले से ही लीवर से जुड़ी बीमारी भी थी।

डीपीएम के अनुसार, एहतियातन कोरोना जांच के लिए उसका सैंपल लिया गया था। आरटीपीसीआर जांच में रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली। उन्होंने बताया कि जिले में विभिन्न केंद्रों पर रैपिड एंटीजन कीट व आरटीपीसआर से 7397 लोगों की जांच की गई है। 11 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। फिलहाल जिले में 43 कोरोना संक्रमित मरीज हैं।

डीपीएम ने बताया कि अब तक जिले में 34,01416 की जांच में 36,945 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इसमें 36,529 लोग संक्रमणमुक्त और 273 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि जिले सभी 24 प्रखंडों में एंटीजन कीट से लोगों की जांच तेजी से कराई जा रही है। जिन प्रखंडों में जांच की प्रक्रिया धीमी है। उन प्रखंडों के चिकित्साधिकारी के साथ जिला प्रशासन सख्ती पेश आ रहा है।