पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नारेबाजी:मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए बोधगया नगर परिषद के सभी सफाईकर्मी

बोधगया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कहा-मजदूरों को नहीं मिला कोविड-19 का 45 सौ रुपए, सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी

नगर परिषद बोधगया में काम करने वाले सफाई कर्मी शुक्रवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। इस बीच सफाई कर्मियों ने जनप्रतिनिधि के साथ-साथ अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की। हड़ताल से पूर्व गुरुवार को सफाई कर्मियों की एक बैठक बिहार लोकल बॉडिज इंप्लाइज फेडरेशन के बैनर तले नप कार्यालय में हुई थी, जिसमें सामूहिक रूप से सफाई कर्मियों ने हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया। फेडरेशन के महामंत्री गुलाब

चंद्र प्रसाद ने कहा कि कोरोना काल में संघर्ष करने वाले मजदूर है। लेकिन नप बोधगया के बोर्ड हमारे जीवन के बारे में कुछ नहीं सोचती। इस कारण मजदूर समस्याओं से हमेशा घिरे रहते है। कोविड 19 के पहले दौर में सफाई मजदूरों के लिए 45 सौ रुपए निर्धारित की गई थी, जो 2020 के दशहरा में देने की बात हुई थी, लेकिन अभी तक कोविड 19 के दौरान काम करने वाले मजदूरों को पैसा का भुगतान नहीं किया गया।

केन्द्र व बिहार सरकार नहीं दे रही है ध्यान
कोविड-19 के दूसरे लहर में सफाई मजदूरों ने काम किया। भारत एवं बिहार सरकार कोविड-19 में काम करने वाले स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग, डाॅक्टरों के लिए तरह-तरह की घोषणाएं कर रही है, लेकिन बोधगया नप का बोर्ड सिर्फ मजूदरों को साबुन, सैनिटाईजर और मास्क के अतिरिक्त कुछ भी देने को तैयार नहीं है। मजदूरों को बिना ग्लव्स के ही कूड़ा को उठाना पड़ रहा है। सुरक्षा संबंधित कई समान नहीं मिलने के बाद सफाई मजदूर दिन-रात क्षेत्र के सफाई व्यवस्था में लगे हुए है।

इन मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं कर्मी

समझौता के आलोक में कोविड 19 का तय 45 सौ का भुगतान 12 दिनों का आकस्मिक अवकाश देने रात्रि पाली में काम करने वाले मजदूरों को रविवार को छुट्टी सभी सफाई मजदूरों को खोला जाए पीएफ का खाता 2021 में कोविड-19 में काम करने वाले मजदूरों को एक माह का अतिरिक्त वेतन देने 2019 व 20 का गर्म कपड़ा व रेन कोर्ट दिया जाए संजय के आश्रित को काम देने सफाईकर्मी की मौत होने पर उसके आश्रितों को 10 हजार रुपए एवं दाह-संस्कार का खर्च मिले

खबरें और भी हैं...