गया में गाना सुन रही दलित महिला पर हमला:दबंगों ने घर में घुसकर की छेड़खानी, बचाने आए पति-भैंसुर का सिर फोड़ा

गया10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जख्मी का इलाज करते डॉक्टर। - Dainik Bhaskar
मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जख्मी का इलाज करते डॉक्टर।

गया जिले से करीब 60 किलोमीटर दूर महकार थाना क्षेत्र के नदरा गांव की रहने वाली दलित महिला, उसके पति और भैंसुर को बुरी तरह से पीटकर जख्मी कर दिया। घायल होनेवाले लोगों का अपराध बस इतना था कि वह गुरुवार की रात करीब 11 बजे होली के गीत सुन रहे थे। इधर थानेदार पवन कुमार सिंह का कहना है कि मामले की जांच चल रही है। दो लोग जख्मी हैं। उनके बयान के बाद मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा। वहीं डीएसपी विनय कुमार शर्मा ने बताया कि संबंधित मामले में ठोस कार्रवाई का निर्देश दिया गया है।

जख्मी महिला खुशबू कुमारी का आरोप है कि गांव के दबंगों ने घर में घुसकर पहले उसी के ऊपर हमला किया। साड़ी का पल्लू खींच कर जमीन पर गिरा दिया। साथ ही जबर्दस्ती पर आमदा हो गए। यह देख पति दीपक चौधरी जब उसे बचाने आए तो राइफल की बट से सिर पर जानलेवा हमला कर दिया। इससे उनका सिर फट गया। पति का सिर फटा देखकर आए हमारे भैंसुर सत्येंद्र चौधरी पर भी राइफल के बट से हमला किया गया। इससे उनका भी सिर फट गया। इतने पर भी वे लोग नहीं माने और हमलोगों की पिटाई करने लगे।

मारपीटा का शोर सुनकर आसपास के लोग जुटने लगे तो सभी मौके से हथियार लहराते हुए भाग गए। आननफानन में घायल पड़े दोनों लोगों को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन वहां से मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया गया।

महिला का कहना है कि नदरा गांव हथियामा पंचायत के तहत आता है। इसी पंचायत के तहत पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का भी गांव महकार आता है। इस पंचायत का पूर्व मुखिया गांव के दलितों के ऊपर अपनी खीझ अक्सर निकालता रहता है। उसका आरोप है कि दलितों ने उसे वोट नहीं दिया। इस वजह से वह चुनाव हार गया है। पीड़ित महिला ने पुलिस को दिए आवेदन में लालू यादव, हरिजन यादव, नीतीश कुमार, रविश कुमार, नौलेश कुमार, उमेश यादव व गुड्‌डू यादव को नामजद किया है।