गया में तारीख पर तारीख पर तारीख:MMCH में नहीं मौजूद AES और JE जैसी बीमारियों की जांच किट, 4 दौर की बैठकें रहीं बेनतीजा

गया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
MMCH गया की हालत खास्ता। - Dainik Bhaskar
MMCH गया की हालत खास्ता।

मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल (MMCH) में बच्चों में होनेवाली AES और JE जैसी गंभीर बीमारियों की जांच के लिए कोई किट उपलब्ध नहीं है। बरसात का मौसम शुरू होते ही इस बीमारी के फैलने की आशंका बढ़ जाती है। बारिश पूर्व से लेकर अब तक जिला प्रशासन की ओर से चार दौर की बैठकें हो चुकी हैं।

हर बैठक में संबंधित बीमारी को लेकर चिंता व्यक्त की गई, लेकिन इनकी जांच के टूल्स की चिंता और उसे उपलब्ध कराने की पहल नहीं की गई है। यही वजह है कि अब तक मेडिकल कॉलेज में JE की जांच के लिए PCR किट नहीं है।

BMSICL कंपनी देती है यह किट

यह किट मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल को BMSICL कंपनी ही देती है। किट की मांग मेडिकल कॉलेज की ओर से की गई है, लेकिन कंपनी की ओर से एक भी किट अब तक मुहैया नहीं कराई गई। सूत्रों का कहना है कि बीते दिनों MMCH द्वारा विभाग के एडिशनल सेक्रेटरी को इस समस्या की जानकारी दी गई थी, लेकिन वहां से भी कुछ नहीं हो सका।

एडिशनल सेक्रेटरी ने सिर्फ इतना बताया कि किट के लिए टेंडर हो चुका है। दो से तीन दिनों में पहुंच जाएगा। इस आश्वासन के भी तीन दिन से अधिक हो चुके हैं, लेकिन इस पर काम कुछ भी नहीं हुआ है।

मगध मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ अर्जुन चौधरी ने बताया कि हमने जिला प्रशासन से लेकर सरकार तक लिखित में सूचना दे रखी है। अब सरकार का काम है किट उपलब्ध कराना। चूंकि टेंडर हो चुका है, इसलिए हम अब बाहर से भी किट को नहीं खरीद सकते हैं।

2019 में मिले थे JE के 15 केस

जिले में 2019 में JE के एक साथ 15 केस मगध मेडिकल कॉलेज में आए थे। JE के केस आते ही जिला से लेकर पटना सचिवालय तक हड़कंप मच गया था। आए दिन सरकार की विशेष टीम का दौरा मगध मेडिकल कॉलेज में शुरू हो गया था। उस दौरान 5 बच्चों की मौत भी JE की वजह से हुई थी।

2020 बारिश कम होने की वजह से जल जमाव की भी समस्या जिले में नहीं रही। इसकी वजह से संबंधित बीमारी के केस नहीं आए। इस वर्ष बारिश जोरों पर है। जल जमाव भी हो रहा है। ऐसे में इस बीमारी के फैलने की आशंका चिकित्सक जता रहे हैं।

खबरें और भी हैं...