शादी रोक कर करना पड़ा अंतिम संस्कार:गया में तिलक चढ़ने के पहले ही लड़के के पिता ने तोड़ा दम, दो माह के लिए शादी टली

गया9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांकेतिक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
सांकेतिक तस्वीर।

गया के गुरुआ प्रखंड के बारा गांव के एक घर में शादी समारोह का माहौल गम में तब्दील हो गया। तिलक का उत्साह चरम पर पहुंचने से पहले ही लड़के के पिता ने दम तोड़ दिया। ऐसे में तिलक के विधि विधान धरे के धरे ही रह गए और अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हो गई। साथ ही शादी भी अगले कुछ माह के लिए टाल दी गई।

छोटू की शादी की हसरत रह गई अधूरी
गया के बारा गांव के गणौरी दास के यहां उसके छोटे बेटे छोटू का झारखंड से लड़की पक्ष के लोग बुधवार की शाम तिलक चढ़ाने आए थे। शाम ढलने के बाद तिलक चढ़ाने की प्रक्रिया शुरू ही हुई थी कि गणौरी दास को हार्ट अटैक आया और वह कुछ ही देर में समारोह स्थल पर ही दम तोड़ दिए। बताया जाता है कि गणौरी दास पूर्व से ही हार्ट का पेशेंट थे। उनके पांच लड़के हैं। पांच में चार की उन्होंने शादी कर दी थी। छोटू की शादी होने वाली थी।

कुछ माह बाद शादी टाल दी गई
गणौरी दास झारखंड के धनबाद में कोइलवरी में काम करते थे। वहां से रिटायर्ड होने के बाद वह गांव में रह कर अपना जीवन बिता रहे थे। तिलक समारोह के दौरान हुई मौत की खबर से पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया। गांव वालों ने मध्यस्थता कर पहले गणौरी का अंतिम संस्कार और दसकर्म करने की सलाह दी। साथ ही कुछ माह बाद शादी करने की नसीहत दी। इस पर दोनों पक्ष तैयार हो गए। गुरुवार की सुबह गणौरी का अंतिम संस्कार किया गया।

खबरें और भी हैं...