पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गया में भी ब्लैक फंगस ने दी दस्तक:मानपुर में मिले पहले संदिग्ध मरीज की आंख में समस्या, मगध मेडिकल के विशेष वार्ड में भर्ती हुआ, इलाज जारी

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मगध मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए 40 बेड का विशेष वार्ड बनाया गया है। - Dainik Bhaskar
मगध मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए 40 बेड का विशेष वार्ड बनाया गया है।

जिले में ब्लैक फंगस का पहला संदिग्ध मरीज मानपुर प्रखंड के अमरा गांव से सामने आया है। पीड़ित को मगध मेडिकल कॉलेज के विशेष वार्ड में भर्ती कराया गया है। फिलहाल उसका इलाज चल रहा है। स्थिति नियंत्रण में है। जिले में ब्लैक फंगस की दस्तक से चिकित्सकों के बीच सरगर्मी बढ़ गई है। सभी चिकित्सक इस बीमारी पर अपनी-अपनी राय देने में जुट गये हैं।

मरीज की आंख में है समस्या

अस्पताल के मुताबिक संदिग्ध मरीज की उम्र 48 वर्ष है। उसकी आंख में एक सप्ताह से समस्या चली आ रही है। उसने अपना इलाज निजी क्लीनिक में भी कराया था, पर वास्तविक बीमारी के बारे में न तो बताया गया और न ही उसे एहसास हो सका। स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो उसे मगध मेडिकल कॉलेज के ब्लैक फंगस वार्ड में भर्ती कराया गया। अस्पताल में विभिन्न प्रकार की जांच कराई गई तो पता चला कि उसे शुगर की भी बीमारी है। मरीज का कहना है कि उसे शुगर है, इस बात की अब तक जानकारी नहीं थी।

ब्लैक फंगस वार्ड के नोडल पदाधिकारी सह ईएनटी के विभागाध्यक्ष डॉ। आरपी ठाकुर ने बताया कि संदिग्ध मरीज के सैंपल लिए गए हैं। जांच के बाद ही ब्लैक फंगस की पुष्टि हो पाएगी। डॉक्टरों की विशेष टीम देखरेख कर रही है।

मगध मेडिकल कॉलेज में है विशेष तैयारी

गया के मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल के ईएनटी विभाग में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए विशेष वार्ड बनाया गया है। यह वार्ड फिलहाल 40 बेड का है। इस बीमारी के लिए डॉक्टरों की विशेष टीम भी बनाई गई है।

ब्लैक फंगस वार्ड में ही जमा हुआ था पानी

इसी वार्ड में 'यास' की वजह से हुई भारी बारिश के कारण जलजमाव हो गया था। शुक्रवार को अस्पताल व ईएनटी वार्ड में चारों तरफ पानी भर गया था। अस्पताल की इस हालत को देख अधिकारी सकते में आ गये थे। आननफानन में मशीन लगाकर वार्ड व अस्पताल से पानी निकाला गया।

वार्ड के गलियारे में भी जलजमाव की स्थिति।
वार्ड के गलियारे में भी जलजमाव की स्थिति।

ब्लैक फंगस की दस्तक से बढ़ी चिंता

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जिले में कोरोना संक्रमित 190 से अधिक लोग अब तक जान गंवा चुके हैं। इस बीच अब ब्लैक फंगस ने भी अपनी दस्तक दे दी है। मगध मेडिकल के अस्पताल अधीक्षक का कहना है कि ब्लैक फंगस मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल प्रबंधन व चिकित्सकों की पूरी टीम तैयार है। दवाइयां भी पर्याप्त हैं।

खबरें और भी हैं...