जो ट्रेन रेलवे के पास नहीं, सांसद चाहते उसका ठहराव:गया सांसद की मांग - पहाड़पुर में रुके सियालदह-जम्मूतवी एक्सप्रेस; यह ट्रेन ही मौजूद नहीं

गया10 महीने पहलेलेखक: दीपेश
संसद में बीते 15 मार्च को अपने इलाके की समस्या रखते गया सांसद विजय मांझी।

गया के सांसद विजय मांझी ने बीते 15 मार्च को संसद में एक ऐसी मांग की कि उनके क्षेत्र के लोग भी हैरान रह गए हैं। दरअसल जदयू सांसद ने संसद में केंद्र सरकार से मांग की है कि सियालदह-जम्मूतवी एक्सप्रेस ट्रेन का ठहराव पहाड़पुर स्टेशन पर किया जाए। उन्होंने कहा कि संबंधित ट्रेन का ठहराव बीते दो वर्ष से पहाड़पुर में बंद है। इससे इलाके के लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

असल में स्थिति यह है कि सियालदह-जम्मूतवी नाम की कोई ट्रेन अब रेलवे के रिकार्ड में है ही नहीं। एक ट्रेन सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस नाम से है, जिसका ठहराव पहाड़पुर में न तो पहले था और न ही अब है।

तो कहां गई सियालदह-जम्मूतवी एक्सप्रेस?
सियालदह-जम्मूतवी नाम से एक ट्रेन पहले चलती थी, लेकिन अब उसका नाम बदलकर कोलकाता-जम्मूतवी कर दिया गया है। वजह कि पूर्व में यह ट्रेन सियालदह से खुलती थी, लेकिन अब बीते कुछ वर्षों से कोलकाता से खुलती है। इस ट्रेन का ठहराव पहाड़पुर में वर्षों से चला आ रहा है। कोरोना काल में भी इस ट्रेन का ठहराव पहाड़पुर में बंद नहीं किया गया था। सच्चाई यह है कि इस ट्रेन का ठहराव कोरोना काल में पहाड़पुर से आगे स्थित गुरपा रेलवे स्टेशन पर रोका गया था, जो अब तक बंद है।

पहाड़पुर रेलवे स्टेशन के प्रबंधक चार्ल्स मिंज ने बताया कि कोलकाता-जम्मूतवी ट्रेन का ठहराव लंबे समय से पहाड़पुर में है। इसका ठहराव कभी भी यहां बंद नहीं किया गया है। संबंधित ट्रेन का ठहराव गुरपा में रोका गया है, जो अब भी बरकरार है। सियालदह-जम्मूतवी नाम की कोई ट्रेन अब है ही नहीं।

इधर गुरपा की मुखिया सारिका कुमारी का कहना है कि यहां कोलकाता-जम्मूतवी ट्रेन का ठहराव कोरोना काल से रुका चला आ रहा है। उस ट्रेन का ठहराव यहां फिर से शुरू किया जाना चाहिए। यहां ठहराव नहीं होने की वजह से पब्लिक नाहक में परेशान है।

इस पूरे मामले पर सांसद विजय मांझी से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उनका नंबर नेटवर्क से बाहर बताया गया।

खबरें और भी हैं...