गया में चुनावी रंजिश में चली गोलियां और लाठी-गड़ासे:मुखिया प्रत्याशी ने छिपकर बचाई जान, गांव में कैंप कर रही CRPF की कोबरा टीम

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमले में घायल शख्स। - Dainik Bhaskar
हमले में घायल शख्स।

गया के डुमरिया प्रखंड के मैगरा थाना क्षेत्र के नारायणपुर पंचायत का मुरलीगंज गांव शाम ढलते ही रणक्षेत्र में बदल गया। मुखिया पद के लिए चुनाव लड़ रहे एक पक्ष ने अपने समर्थकों के साथ विपक्षी मुखिया प्रत्याशी व उसके समर्थकों पर जानलेवा हमला बोल दिया। इस हमले में लाठी-डंडे व गड़ासे-भाले खूब चले और गोलियां भी खुली हवा में चलाई गई।

बताया जा रहा है कि पूरे गांव को घेर कर मुखिया व उसके समर्थकों पर जानलेवा हमला किया गया है। यही नहीं, मुखिया प्रत्याशी सरोज देवी को अपनी जान एक घर की छत पर बने कमरे में छिप कर बचानी पड़ी। इस घटना की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मौके पर सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन के साथ मैगरा थाने को पहुंचना पड़ना। फिलहाल गांव में कोबरा की टीम कैंप कर रही है।

इस जानलेवा हमले में तीन लोग बुरी तरह से जख्मी बताए जा रहे हैं। तीनों को मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल के लिए भेजा गया है। वहीं डुमिरया पुलिस गांव में पहुंच कर हमलावरों की तलाश में जुट गई है।

डीएसपी अजीत कुमार ने बताया कि आरोपियों की धरपकड़ के लिए छापेमारी चल रही है। पीड़ित पक्ष की ओर से आवेदन मांगे गए हैं। उनके आवेदन के आधार पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुखिया प्रत्याशी के हत्यारोपी की पत्नी है प्रतिद्वंदी

नारायणपुर पंचायत से मुखिया पद के लिए सरोज देवी प्रत्याशी हैं। उनके पति महेंद्र यादव की हत्या के आरोपित व फरार चल रहे राजेश यादव की पत्नी रीता देवी चुनाव मैदान में आमने-सामने हैं। महेंद्र यादव की बीते वर्ष ही हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद से ही राजेश यादव फरार चल रहा है। बताया जाता है कि वह नक्सली है।

लोगों का कहना है कि सरोज देवी को अच्छा-खासा वोट मिला है। इस बात रीता देवी के समर्थक पूरी तरह बौखलाए हैं। शाम के वक्त मतगणना के लिए गया के लिए सरोज देवी अपने परिवार व समर्थकों के साथ गांव से निकल रही थी। इसी बीच रीता देवी के समर्थकों ने पूरी तैयारी के साथ पूरे गांव को घेर लिया और सरोज व उनके समर्थकों पर लाठी डंडे, गड़ासे व भाला से हमला बोल दिया। अचानक हुए इस हमले से पहले तो गांव में जबर्दस्त भगदड़ मची लेकिन जब गांव वाले मामला समझ एकजुट होने लगे तो हमलावरों ने हवा में ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी।

हालांकि सरोज देवी के समर्थकों ने हमलावरों से संघर्ष किया, पर उनकी भीड़ के आगे वे टिक नहीं सके। इसी बीच तीन लोग राजेंद्र यादव, भोला यादव और राहुल कुमार बुरी तरह से जख्मी होकर जमीन पर गिर पड़े। इधर घटना की सूचना पर मौके पर पुलिस के पहुंचने की भनक लगते ही हमलावर वहां निकल गए।