आर्किटेक्ट सुनील शर्मा की भाई-भतीजे ने ही की हत्या:गया की पहाड़ी के पास मिला शव, दोनों पैर से दिव्यांग भाई है झगड़े की वजह

गया21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शव मिलने वाली जगह पर लगी भीड़। - Dainik Bhaskar
शव मिलने वाली जगह पर लगी भीड़।

गया जिले के बुनियादगंज थाना क्षेत्र के बड़ी इनारा जोड़ा मस्जिद के रहनेवाले आर्किटेक्ट सुनील शर्मा की उसके भाई व भतीजों ने ही मिल कर हत्या कर दी। यही नहीं, हत्या कर उसके शव को चंदौती थाना क्षेत्र के एफसीआई पहाड़ी के पास फेंक दिया। घटना के समय से लेकर दोपहर तक पुलिस उसकी डेड बॉडी को ढूंढती रही, पर कहीं कोई सुराग नहीं मिला। दोपहर को अचानक से चंदौती पुलिस को सूचना मिली कि एक युवक का शव पहाड़ी के नीचे पड़ा है। इस सूचना पर बुनियादगंज थाना पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि डेड बॉडी किसी और की नहीं, बल्कि सुनील की ही है।

हालांकि पुलिस ने हत्या करनेवालों में से तीन को रात को ही हिरासत में ले लिया था। बावजूद इसके पुलिस यह भी मान कर रही चल रही कि शायद सुनील जिंदा हो, क्योंकि उसका मोबाइल बंद मिल रहा था और उसकी डेड बॉडी का सुराग नहीं मिल रहा था। वहीं दूसरी ओर सुनील के भाई-भतीजों का कहना था कि सुनील को इलाज के लिए अस्पताल ले गए हैं। इससे पुलिस थोड़ी सी कंफ्यूज भी थी।

सुनील की फाइल फोटो।
सुनील की फाइल फोटो।

भाईयों के साथ प्रापर्टी का विवाद भी था सुनील का
सुनील कुमार चार भाईयों में सबसे छोटा था। वह दिल्ली में किसी प्राइवेट कंपनी में आर्किटेक्ट की नौकरी कर रहा था। छह से आठ महीने में अपने घर आया करता था और एक-दो दिन रहने के बाद वापस अपने परिवार के साथ चला जाता था। बताया जा रहा है कि सुनील का उसके भाइयों के साथ प्रॉपर्टी का विवाद चल रहा था।

बुनियादगंज पुलिस ने बताया कि सुनील दो दिन पहले दिल्ली से पटना आया और वह अपनी पत्नी को पटना में ही छोड़ कर गया आ गया। गुरुवार की शाम वह हरी सब्जी खरीद कर अपने घर पहुंचा। रात को भाइयों के बीच बातचीत के दौरान विवाद बढ़ा। इसी बीच सुनील के भतीजे प्रिंस ने उसके सिर के ऊपर रॉड से जानलेवा हमला बोल दिया। प्रिंस ने रॉड से कई बार हमले किए। इससे सुनील लहूलुहान होकर बेहोश हो गया। आनन-फानन में सुनील के अन्य दो भाइयों ने उसे कार में रखा और अस्पताल के नाम पर घर से बाहर ले गए। इस बीच सुनील ने दम तोड़ दिया था।

सुनील के मरने की बात समझ में आते ही उसके दोनों भाइयों ने उसके शव को चंदौती थाना क्षेत्र के पहाड़ी इलाके में फेंक खुद फरार हो गया। इधर किसी तरह से इस घटना की सूचना सुनील की पत्नी को लगी तो उसने बुनियादगंज थानाध्यक्ष उपेंद्र कुमार को फोन कर घटना की सूचना दी।

सूचना पर पुलिस सुनील के घर पहुंची व घटना की जानकारी घर के अंदर रहे लोगों से जानना चाहा तो घरवाले अंजान बन गए। इस पर पुलिस ने सुनील के बड़े भाई नारायण उसकी पत्नी और भतीजा प्रिंस को रात में ही हिरासत में ले लिया था।

दोनों पैर से दिव्यांग भाई ही है झगड़े की जड़
थानाध्यक्ष ने बताया कि डेड बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है और फिलहाल पूर्व में हिरासत में लिए गए सभी आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने बताया कि प्रिंस हाल ही में जेल से छूट कर आया है। वह चाकू मारने के आरोप में जेल में बंद चल रहा था। वहीं मृतक सुनील की पत्नी भी पटना से गया के लिए चल चुकी है। उसे एक छोटी सी बच्ची भी है।

खास बात यह है कि पुलिस ने जिस भाई को गिरफ्तार किया है। वह दोनों पैर से दिव्यांग है। इधर मुहल्ले के लोगों का कहना है कि सारी लड़ाई का जड़ वह दिव्यांग है। वह अपने अन्य भाइयों के साथ मिल कर सुनील को प्रॉपर्टी नहीं देना चाह रहा था। मुहल्ले में नारायण व उसके भाइयों को किसी नहीं पटती है।

खबरें और भी हैं...