• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • Gaya News; Encounter Between Naxalites And CRPF For Two Days On Aurangabad Border Near 24 Number Point

गया-औरंगाबाद बॉर्डर पर 2 दिनों से जारी एनकाउंटर:नक्सलियों का मजबूत गढ़ रहा है इलाका, यहीं जंगलों में 24 नंबर प्वाइंट पर जमी है CRPF

गया18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बीते दो दिनों से गया व औरंगाबाद जिलों की सीमा पर स्थित घने जंगलों के 24 नंबर पॉइंट पर मुठभेड़ की सूचना है। यह मुठभेड़ नक्सलियों और CRPF के कोबरा जवानों के बीच हो रही है। CRPF जवान नक्सलियों के अब तक अभेद्य रहे किले को भेदने में जुटे हैं। लेकिन, अब तक उन्हें सफलता नहीं मिली है। रुक-रुककर दोनों ओर से फायरिंग की जा रही है। 24 नंबर पॉइंट जंगल का वही इलाका है, जहां साल 2016 में 12 कोबरा जवान नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में शहीद हो गए थे। एक बार फिर से उसी जगह पर ताबड़तोड़ फायरिंग हो रही है।

सूत्रों का कहना है कि जंगल को तीन दिशाओं से CRPF ने घेर रखा है। जो चौथी दिशा है, वहां नक्सली अपने आकाओं के साथ अड्‌डा मारकर मुठभेड़ करने में जुटे हैं। बड़ी संख्या में गया और औरंगाबाद में तैनात CRPF के जवान को लगाया गया है। STF भी इस अभियान में लगी है।

नक्सलियों को भारी क्षति, CRPF को नुकसान नहीं
पचरुखिया में देर रात मुठभेड़ खत्म होने के बाद जवान आगे बढ़ कर सर्च अभियान चला रहे थे। इसी बीच जब वे लंगुराही के आसपास पहुंचे तो नक्सलियों ने उनके ऊपर फायर कर दिया। इस पर नक्सलियों ने भी उन्हें करारा जवाब दिया। SSP अभियान मुकेश कुमार का कहना है कि मुठभेड़ चल रही है। नक्सलियों को काफी नुकसान हुआ है। जब तक जवान लौटते नहीं, तब तक स्थिति स्पष्ट नहीं की जा सकती है।

CRPF के अधिकारियों का कहना है कि नक्सलियों को भारी क्षति पहुंची है। लेकिन किस तरह की क्षति पहुंची, इस बात की जानकारी नहीं हो सकी है। मुठभेड़ के दौरान IED ब्लास्ट भी हुआ है। हालांकि अब तक CRPF को किसी नुकसान की खबर नहीं है।

क्या है 24 नंबर पॉइंट
गया जिले के इमामगंज की सीमा औरंगाबाद की सीमा से लगी हुई है। इस जंगली सीमा में लंगुराही, गोपाल डेरा, पंचरुखिया और डुमरी नाला नक्सलियों के लिए लंबे समय से अभेद्य किला रहा है। इस पर अब तक CRPF फतह हासिल नहीं कर सकी है। लेकिन बीते दो दिनों से इसी इलाके को फतह करने में जुटी है।

CRPF सर्च आपरेशन के लिए जंगल के विभिन्न स्थानों को पॉइंट के माध्यम से चिह्नित करती है। हर इलाके का अलग-अलग पॉइंट होता है। वही पॉइंट उसके मैप में दर्शाता है। उसी के आधार पर वह अपनी रणनीति तैयार करती है और नक्सलियों के खिलाफ मोर्चा लेती है।

खबरें और भी हैं...