पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • Gaya's Nursing Home Left The Patient On The Road For Not Giving Advance, The Nursing Home Sealed

बिहार में अमानवीयता:गया में एडवांस पैसा नहीं देने पर नर्सिंग होम वाले ने एडमिट मरीज को सड़क पर फेंका, पिटाई खाने के बाद थाने गए परिजन तो पुलिस ने हड़काया

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गया में सड़क पर पड़ा मरीज। - Dainik Bhaskar
गया में सड़क पर पड़ा मरीज।

गया में कोरोना संक्रमण के दौरान इलाज के नाम पर चारों ओर लूट मची है। पैसे के आगे नर्सिंग होम वालों ने इंसानियत को ताक पर रख दिया है। जिले के नक्सल प्रभावित इलाका फतेहपुर प्रखंड के ब्लॉक कार्यालय में एक नर्सिंग होम ने एडवांस पैसे नहीं मिलने पर भर्ती मरीज को न केवल सड़क पर मरने को छोड़ दिया, बल्कि उसके परिजनों के साथ मारपीट भी की। मामला जब थाना पुलिस तक पहुंचा तो पुलिस पीड़ित परिवार को हड़काने में जुट गई। लेकिन मामला जब और गरमाया तो प्रशासन ने नर्सिंग होम को सील कर दिया।

70000 रुपए देने के बाद भी अमानवीयता
मातासो के रहने वाले सुरेन मांझी को उनके परिजनों ने बीते शुक्रवार को आदर्श चिकित्सा सेवा सदन में भर्ती कराया था। सुरेन को सांस लेने में तकलीफ थी। लगातर चार दिनों तक इलाज करने के बाद नर्सिंग होम के संचालकों द्वारा सुरेन के परिजनों द्वारा 90 हजार रुपए की मांग की गई। जबकि, मरीज के परिजनों ने 70000 रुपए पहले ही भुगतान कर दिए थे। बाकी रुपए का भुगतान नहीं करने के कारण सोमवार दोपहर मरीज को नर्सिंग होम से बाहर निकाल कर सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया गया। इस बीच सुरने के परिजन शेष पैसे का इंतजाम कर वापस नर्सिंग होम पहुंचे तो अपने मरीज को सड़क पर देख कर बौखला गए। बीमार मरीज को सड़क पर छोड़े जाने पर सुरेन के परिजनों व नर्सिंग होम के संचालकों के बीच बहस होने लगी। देखते ही देखते दोनों के बीच मारपीट होने लगी।

नर्सिंग होम को सील कर दिया गया
सुरेन के परिजनों का कहना है कि मारपीट की स्थिति हुई तो वे घबरा कर फतेहपुर थाने पहुंच गए। वहां मदद की जगह पर उन्हें न केवल बंद कर दिया गया बल्कि पुलिस ने हड़काया भी। पुलिस के इस तेवर को देख सुरेन के अन्य परिजनों ने घटना की सूचना जिले के वरीय पुलिस अधिकारी एवं प्रभारी जिला अधिकारी को दी। इसके बाद स्थानीय प्रशासन के साथ सुरेन के परिजनों को बंद कर हड़काने वाली पुलिस भी हरकत में आ गई। CO विजय कुमार, CHC प्रभारी डॉ अशोक कुमार थानाध्यक्ष संजय कुमार की मौजूदगी में नर्सिंग होम को सील कर दिया गया।

नर्सिंग होम में हुई मारपीट में पप्पू मांझी व विरेन्द्र मांझी को चोटें आई हैं। घटना को लेकर दोनों ओर से फतेहपुर थाने में एक दूसरे के खिलाफ आवेदन भी दिया गया है। फतेहपुर थानाध्यक्ष संजय कुमार ने बताया कि नर्सिंग होम में घटित घटना की पुलिस जांच कर रही है। वहीं नर्सिंग होम संचालक को पुलिस ने फिलहाल हिरासत में ले लिया है। फिलहाल मरीज को CHC फतेहपुर में भर्ती कराया गया है।

खबरें और भी हैं...