पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निरीक्षण:होटल इंपिरियल को कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए किया चिह्नित

गया9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीएम ने लिया जायजा, सहायक समादेष्टा ने होटल कर्मियों को दी काेरोना की जानकारी

स्वास्थ्य विभाग बिहार सरकार के निर्देशानुसार अब बिना लक्षणों वाले और स्वस्थ कोरोना पॉजिटिव मरीज को होटल के कमरों में आइसोलेट किया जाएगा। ऐसा निर्णय कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में मरीजों को अधिक दवाब को कम करने के लिए किया गया है। इसी क्रम में बोधगया का होटल इंपिरियल को पॉजिटिव मरीजों के रखने के लिए चिन्हित किया गया है। बुधवार को डीएम अभिषेक सिंह ने इस होटल के सभी कमरों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान डीएम ने कहा कि होटल के तीसरे तल्ले पर कुल 30 कमरे हैं जहां पॉजिटिव मरीज को आइसोलेट किया जाएगा।  वहीं दूसरे तल्ले के 20 कमरों में डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी और यहां प्रतिनियुक्त अधिकारियों को रखा जाएगा। डीएम ने होटल प्रबंधन को यह निर्देश दिया कि सभी कमरों में टीवी लगाया जाए ताकि आइसोलेट मरीजों का मनाेरंजन हो सके। डीएम ने आइसोलेट मरीज कहीं भाग ना जाए इसके लिए भी अवलोकन किया। डीएम ने कहा कि होटल के अन्य रास्तों को बलॉक किया जाए और केवल पीछे की सीढ़ी ही खुला रखा जाए जिससे पॉजिटिव मरीज होटल में पहुंच सकें। तीसरे तल्ले पर जो भी चिकित्सा कर्मी जाएंगे, वे पूरी तरह पीपीई किट में जाएंगे। मौके पर डीपीआरओ नागेन्द्र कुमार गुप्ता, सिविल सर्जन डॉ. ब्रजेश कुमार सिंह, बोधगया नपं के कार्यपालक पदाधिकारी शशि भुषण प्रसाद, एसडीओ आदि मौजूद थे।

कोशिका के संपर्क में आने पर बढ़ता है कोरोना वायरस
निरीक्षण के बाद होटल के कर्मियों के लिए प्रशिक्षण सत्र का आयोजन किया गया जिसमें एनडीआरएफ के सहायक समादेष्टा जयप्रकाश नारायण ने प्रशिक्षण दिया। श्री नारायण ने कहा कि काेविड 19 यानी कोरोना वायरस एक प्रकार को निर्जीव वायरस है और जैसे हीइसे सेल यानी कोशिका का संपर्क होता है, यह बढ़ने लगता है। यह खास करके नाक, आंख और मुंह के जरिए मनुष्य में प्रवेश करता है।
सिर्फ सर्दी-खांसी होना ही काेरोना का लक्षण नहीं
श्री नारायण ने कहा कि संक्रमण का फैलाव प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर होता है। संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से जो फैलाव होता है उसे प्रत्यक्ष कहते हैं। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति झींकने अथवा खांसने से वायरस किसी वस्तु पर रहता है। उसे वस्तु को यदि कोई व्यक्ति छुता है तो वायरस उसके हाथों में चला आता है। फिर यदि आप हाथ को बिना सफाई के अपनी आंख, नाक अथवा मुंह में लगाते हैं तो वायरस अापके शरीर में प्रवेश करता है जिसे अप्रत्यक्ष संक्रमण कहते हैं।
सोशल डिस्टेंसिंग संक्रमण रोकने का एकमात्र तरीका

सहायक समादेष्टा ने कहा कि कोरोना को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की सबसे आसान व बेहतर तरीका है। आप अपने हाथों की सफाई कर भी अप्रत्यक्ष संक्रमण से बच सकते हैं। शरीर में प्रवेश के बाद लक्षण प्रकट होने के 14 दिनों का समय लग सकता है और यही कारण है कि संदिग्ध को क्वारेंटिन व पॉजिटिव का आइसोलेट करने का समय 14 दिन ही निर्धारित किया गया। हालांकि अब सरकार ने इस अवधि को 21 दिनों तक करने का निर्णय लिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपको कई सुअवसर प्रदान करने वाली हैं। इनका भरपूर सम्मान करें। कहीं पूंजी निवेश करने के लिए सोच रहे हैं तो तुरंत कर दीजिए। भाइयों अथवा निकट संबंधी के साथ कुछ लाभकारी योजना...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser