चेन्नई में बैठकर करवाया नाबालिग का रेप और मर्डर:इमामगंज मामले का खुलासा, चेन्नई में बैठे प्रेमी ने दोस्तों से पहले करवाया रेप फिर हुई हत्या

गया3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतका की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
मृतका की फाइल फोटो।

गया के इमामगंज के बाघोपुर में बीते दिनों नाबालिग के साथ रेप और फिर हत्या कोई साधारण घटना नहीं थी। इसके पीछे रहे शख्स की भूमिका चौंका देनेवाली है। खास बात यह है कि इस वारदात का मास्टरमाइंड घटना की रात घटनास्थल से हजारों किलोमीटर दूर चेन्नई में बैठा हुआ था। वहीं से टना को अंजाम तक पहुंचाने में अपने साथियों के साथ जुटा था। पुलिस ने इस पूरी साजिश का आज पर्दाफाश कर दिया है। मुख्य आरोपित समेत चार लोग अरेस्ट किए गए हैं। एक अभी भी फरार है।

कैसे-क्या हुई थी घटना

इमामगंज डीएसपी अजीत कुमार के अनुसार बाघोपुर की नाबालिग को पास का ही योगेश कुमार पंसद करता था। यह बात लड़की के घरवालों को पसंद नहीं थी। इस बात को लेकर दोनों परिवारों के बीच कुछ माह पूर्व जमकर कहासुनी और मारपीट भी हुई थी। इसके बाद से योगेश भाग कर चेन्नई चला गया। चेन्नई में वह किसी निजी कंपनी में काम करने लगा। वह वहीं से अपने साथियों की मदद से लड़की पर नजर रख रहा था।

इस बीच योगेश को खबर मिली कि वह आजकल किसी और युवक से बात कर रही है। इस बात की भनक लगते ही योगेश आपा खो बैठा। वह अपने साथियों को फोन कर उसे ठिकाने लगाने के लिए तानाबाना बुनने लगा। योगेश ने इमामगंज मेंं काम करने वाले अपने साथी योगेंद्र भारती से संपर्क किया। लड़की को जान से मारने की प्लानिंग तैयार की गई।

योगेंद्र ने दो और युवक को अपने साथ लिया और 17 जून की रात बाघोपुर पहुंच गया। लेकिन यहां एक समस्या उनके समक्ष आ गई कि लड़की को घर से बाहर कैसे लाया जाए। इस पर चेन्नई से योगेश ने लड़की को फोन किया और कहा कि हम वापस आ गए हैं। मिलने आ जाओ। यह बात सुनते ही वह घर से बाहर निकल गई और जहां बुलाया गया था, वहां पहुंच गई।

हालांकि परिजनों का कहना है कि अपराधियों ने उनकी बेटी को घर से उठाया था। इसके बाद उन अपराधियों ने रेप करने के बाद उसकी हत्या भी कर दी। यहां तक कि उसके सीने पर भारी भरकम चट्‌टान भी रख दिया था।

पुलिस ने कुछ ऐसे जोड़ी घटना की कड़ियां

पुलिस को इस मामले में कहीं से कोई ठोस सुराग नहीं मिल रहा था। तकनीकी जांच के दौरान डॉग स्क्वायड की टीम भी बुलाई गई थी। टीम के खोजी कुत्ता के समक्ष घटनास्थल से बरामद चीजें पेश की गईं। बरामद चीजों को सूंघने के बाद डॉग घटनास्थल से गांव के ही शिव कुमार यादव और छोटू यादव के घर में घुस गया। इसके बाद पुलिस को मृतका के परिजनों द्वारा जताया गया शक बहुत हद तक सही नजर आने लगा।

पुलिस ने जांच के तार जोड़ने शुरू किए तो योंगेंद्र भारती को गिरफ्तार कर लिया। भारती को दो दिनों के लिए रिमांड पर लिया और फिर पूर सच सामने आ गया। घटना की रात 17 जून को योगेंद्र भारती और चेन्नई में रह रहे योगेश के बीच 18 बार फोन पर बात हुई थी। इस मामले के खुलासे के लिए बड़े स्तर पर इमामगंज में कैंडल मार्च भी निकाला गया था। यही नहीं, पूर्व स्पीकर उदय नारायण चौधरी भी पीड़ित परिवार के साथ थे।

डीएसपी का कहना है कि इस मामले में योंगेंद्र, योगेश, शिव कुमार व वैद्यनाथ यादव को जेल भेजा गया है। एक अपराधी अब भी फरार है।

खबरें और भी हैं...