• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • In The Magadha Medical Prisoner Ward, The Relatives Of The Prisoners Are Getting Exemption For Hours.

सुरक्षा पर सवाल:मगध मेडिकल कैदी वार्ड में कैदियों के परिजनों को मिलने की घंटों तक मिल रही है छूट

गया10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैदी वार्ड के बाहर आराम फरमाते ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी - Dainik Bhaskar
कैदी वार्ड के बाहर आराम फरमाते ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी

केन्द्रीय कारागार में बंद कैदियों की गंभीर बीमारियों के इलाज के जेल प्रशासन ने अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल में विशेष व्यवस्था की गई है। लेकिन, वह सिर्फ जेल प्रशासन के फाइलों में सिमट कर रह गई है। आज की तारीख में कैदियों के लिए मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल का कैदी वार्ड मौज मस्ती का अड्‌डा बन गया है। फोटो बता रही है क्या है अस्पताल में स्थित कैदी वार्ड का नजारा। अस्पताल में भर्ती कैदी अपने परिजनों और दोस्तों से बेरोक-टोक घंटों मुलाकात कर रहे है। लेकिन एक भी जिम्मेवार व्यक्ति इसे देखने वाले नहीं हैं।

अस्पताल के साधारण वार्ड में ही कैदी वार्ड चलाया जा रहा है। जहां कैदियों का इलाज किया जाता है। अस्पताल प्रसाशन द्वारा सिर्फ साधारण वार्ड के एक कोने में कैदी वार्ड बनाया गया है। कैदी वार्ड में कारा प्रशासन के सिपाही तैनात होते हैं। जिनके ऊपर कैदियों को जेल से अस्पताल में भर्ती कराने से लेकर स्वस्थ होने पर वापस जेल तक ले जाने का जिम्मेवारी होती है।

वहीं सुरक्षा के दृष्टिकोण से कैदी वार्ड में किसी भी परिजन को कैदी से मिलने की अनुमति नहीं है। लेकिन, अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज सह अस्प्ताल के कैदी वार्ड की स्थिति ऐसी है कि कैदी वार्ड के अंदर से कैदी गेट पर खड़े और मिलने वाले परिजन बिना किसी रोक-टोक के मिलते देखे जा रहे है।

ऐसा नहीं है कि जिस वक्त कैदी अपने परिजनों से मुलाकात कर रहे हैं। वहां कोई सुरक्षाकर्मी उपस्थित नहीं है। बल्कि कारा प्रशासन के सुरक्षाकर्मी कैदी वार्ड के साथ में और बाहर मगध मेडिकल थाना के सुरक्षाकर्मी बाहर बने फर्श पर लेटे हैं। जब इसकी फोटोग्राफी करते दिखे तो वे उठे। वहीं परिजन कैदी से मिलते रहे।

एसएसपी के निर्देश पर कैदी वार्ड की बढ़ाई गई सुरक्षा
वहीं इस सम्बंध में एसएसपी हरप्रीत कौर ने बताया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से ऐसा नहीं होना चाहिए। सुरक्षा व्यवस्था से संबंधित कारा अधीक्षक से बात की जाएगी। वहीं बाहर
की सुरक्षा के लिए मगध मेडिकल थानाध्यक्ष को निर्देश दिया है।

अलग बनाया जाएगा कैदी वार्ड
एसएसपी हरप्रीत कौर ने कहा कि अस्प्ताल के जेनरल वार्ड में हीं कैदी वार्ड संचालित है। कैदी वार्ड को अलग करने के लिए अस्प्ताल अधीक्षक और डीएम से बात हुई है। जल्द ही कैदी वार्ड अलग बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि कैदी वार्ड के अंदर की सुरक्षा व्यवस्था कारा पुलिस की होती है। जिला प्रशासन सिर्फ मार्गरक्षी दल उपलब्ध कराता है।

खबरें और भी हैं...