• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • Keep Nirjala Fast To Worship The God Jimutvahan; Story Heard From Brahmins, Prayed For Long Life Of Children, Happiness, Prosperity And Splendor

मोक्षदायिनी में व्रतियों ने लगाई डुबकी:निर्जला व्रत रख की जीमूतवाहन भगवान की पूजा; ब्राह्मणों से सुनी कथा, संतान की लंबी आयु, सुख-समृद्धि व वैभव के लिए की प्रार्थना

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिउतिया व्रत को लेकर ब्राह्मणी घाट पर पूजा अर्चना करती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
जिउतिया व्रत को लेकर ब्राह्मणी घाट पर पूजा अर्चना करती महिलाएं।
  • पूजा से जुड़ी सामग्री की खरीदारी के लिए बाजार में दिखी भारी भीड़
  • व्रतियों ने भगवान शिव, पार्वती, गणेश, राजा जीमूतवाहन, चुल्लू की मूरत बना की पूजा-अर्चना

संतान की लंबी आयु, सुख, समृद्धि व वैभव की कामना को लेकर बुधवार को महिलाओं ने जिउतिया पर्व को लेकर निर्जला उपवास का व्रत रखा। दिन भर उपवास पर रहने के बाद भी घरों में व्रतियों ने पुरुकिया, ठेकुआ व सादा पापड़ बनाया, फिर दोपहर बाद स्नान के लिए शहर के ब्राह्मणी घाट, पितामहेश्वर व देवघाट पर पहुंची।

व्रतियों ने मोक्षदायिनी फल्गु में डुबकी लगाई। पवित्र स्नान के बाद व्रतियों ने घाट पर ही विधि-विधान के साथ राजा जीमूतवाहन की पूजा अर्चना की, साथ ही ब्राह्मणों से चुल्लू-सियारिन की कथा का श्रवण किया। कथा के बाद ब्राह्मणों को दान दक्षिणा दिया।

इधर कई घरों में भगवान शिव, पार्वती, गणेश, राजा जीमूतवाहन, चुल्लू व सियारिन की मूरत बना कर पूजा अर्चना की। पुष्प, फल व मिष्ठान चढ़ाएं। बता दें कि जिउतिया पर्व की शुरूआत महिलाओं ने 28 सितंबर को नहाय-खाय के साथ किया था। 30 सितंबर काे पारण कर पर्व का विधिवत समापन करेगी।

सुबह 04:45 के बाद व्रती कर सकती हैं पारण
सुबह 04:45 के बाद व्रती कर सकती हैं पारण

आचार्य पं. पराशर जितेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि 30 सितंबर को सुबह 04:45 के बाद व्रती पारण कर सकती है। इस बार पारण को लेकर किसी भी प्रकार का कोई व्यवधान नहीं है। पारण के साथ ही तीन दिवसीय जिउतिया पर्व को समापन होगा। उन्होंने कहा कि पारण के दिन भी घर में व्रती तरह-तरह के पकवान बनाकर ग्रहण करेगी।

फल और सब्जी की खूब हुई खरीदारी
जिउतिया पर्व के पारण को लेकर लोगों ने फल व सब्जी की जबर्दस्त खरीदारी की। सुबह से लेकर शाम तक मुख्य मंडी केदारनाथ मार्केट में लोगों की भीड़ उमड़ी। सब्जियों में बैंगन, कंदा, परवल, कोबी, भिंडी, पटल, आलू, प्याज, मूली, साग खरीदा। सब्जियों के दाम में ज्यादा वृद्धि नहीं दिखीं, सिर्फ लाल साग के दाम में बढ़ोतरी थी। वहीं फलों में सेव, केला, नासपाती, महताब, अमरूद व नारियल की खरीदारी की।

खबरें और भी हैं...