पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हवन को लेकर तैयारी शुरू:महादेव के पावन माह का आज अंतिम सोमवारी, व्रत के साथ होगा समापन

गया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • श्रावण पूर्णिमा को लेकर शहर के कई शिव मंदिरों में लाइट से की गई सजावट
  • विष्णुपद, गौड़ीए मठ, इस्कॉन मंदिर में चल रहे झुलनोत्सव का आज समापन

देवो के देव महादेव के पावन महीना “श्रावण’ का आज अंतिम सोमवारी व्रत के साथ समापन होगा। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण इस बार पूर्व की भ्रांति शिव धाम नहीं सज रहे है, हालांकि कई शिव मंदिरों में रंग-बिरंगी लाइट टांगी गई है, साथ ही महिलाओं द्वारा भजन कीर्तन भी किया जा रहा है।
सोशल डिस्टेंस बना महिलाएं शिव गीत गा रही है। इधर रविवार को भी शिव मंदिरों में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की कतार दिखीं। शिवलिंग पर दूध, जल, पुष्प, बेलपत्र, भांग, धतुरा अर्पित कर बाबा से मुरादें भी मांगी। सोमवार को श्रद्धालु एक माह के कर्मकांड काे हवन कर पूरा करेंगे। इक्के-दुक्के जगहों पर कुंड भी बनाए गए है। अंतिम सोमवारी के लेकर रामशिला शिव मंदिर, ब्राह्मणी घाट, मार्कण्डेय, कोईरीबारी शिव मंदिर, बुढ़वा महादेव, ए.पी कॉलोनी स्थित शिव मंदिर में भक्तों की कतार लगेगी। हालांकि शिवधाम का द्वार भक्तों के लिए बंद रहेगा।
मार्कण्डेय मंदिर में 101 किलो दूध से बनाई जाएगी खीर
मार्कण्डेय शिव मंदिर में सोमवार को 101 किलो दूध से खीर बनाई जाएगी। बाबा भोले को भोग लगाकर खीर को प्रसाद के रूप में आम श्रद्धालुओं के बीच बांटा जाएगा। इसके अलावे शहर के कई शिव मंदिरों में भी अंतिम सोमवारी को लेकर विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विश्व से जल्द से जल्द कोरोना का प्रभाव खत्म हो, इसके लिए भी विशेष प्रार्थना होगी। श्रावण पूर्णिमा को लेकर मंदिरों में विशेष व्यवस्था की गई है।

श्रावण पूर्णिमा पर नही होगी महाआरती
इस बार श्रावण पूर्णिमा पर फल्गु महाआरती का आयोजन नहीं होगा। प्रतिज्ञा के संस्थापक बृजनंदन पाठक ने बताया कि महाआरती को लेकर जिला प्रशासन द्वारा कोई दिशा-निर्देश नहीं दिया गया है। इस वजह से महाआरती नहीं होगी। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के कारण मार्च से ही फल्गु महाआरती का कर्मकांड बंद है। हर साल श्रावण पूर्णिमा के दिन रंग-बिरंगी रौशनी से देवघाट की सजावट होती थी। काफी भीड़ लगती थी।
घर में भी भक्त हवन कुंड का कर रहे निर्माण
जिले में फैल रहे कोरोना संक्रमण के कारण इस बार श्रावण माह में शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ कम रही। घर पर ही भक्तों ने बाबा भोले की आराधना की। अब एक माह के कर्मकांड को पूरा करने के लिए भक्तों द्वारा हवन कुंड का निर्माण घरों में किया जा रहा है। आचार्य नवीन चंद्र मिश्र वैदिक ने बताया कि घर के अलावे भक्त मार्कण्डेय में पूर्व से बने हवन कुंड में भी सोशल डिस्टेंस बना हवन कर सकेंगे।

झूलन महोत्सव का होगा समापन
शहर के विष्णुपद, गौड़ीए मठ, इस्कॉन मंदिर, श्रीकृष्ण-द्वारिका मंदिर, श्रीरामानुज मठ में पिछले पांच दिनों से चल रहे झुलन महोत्सव का समापन सोमवार को होगा। गया के इतिहास में पहली बार भगवान का झूला ताे टंगा, लेकिन झूलाने के लिए भक्त नहीं पहुंचे। इन प्रमुख मंदिरों का द्वार भक्तों के लिए बंद रहा। मंदिर समिति की माने तो अंतिम दिन विशेष पूजा के बाद झुलन महोत्सव का समापन किया जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser