जिप कार्यालय में अनियमितता को लेकर हुई जांच:जांच में कई पदाधिकारी पर गिर सकती है गाज

गयाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला परिषद की निवर्तमान अध्यक्षा करुणा कुमारी द्वारा जिला परिषद में योजनाओं के क्रियान्वयन में भारी वित्तीय अनियमितता करने एवं सरकारी राशि का दुरुपयोग करने सहित पंचम वित्त आयोग वर्ष 2016-17 तथा 2020-21 की 15वीं वित्त आयोग की राशि में से 30 करोड़ की योजना बैठक में बिना प्रस्ताव के पारित किए जाने को लेकर जिला परिषद अध्यक्षा नैना कुमारी ने पंचायती राज विभाग के प्रधान सचिव को लिखित शिकायत की है।

शिकायत के बाद प्रधान सचिव के निर्देश पर जांच टीम गया पहुंच गई है। जानकारी के अनुसार सोमवार को जांच टीम ने गया जिला परिषद् कार्यालय में विभिन्न योजनाओं से संबंधित आवश्यक दस्तावेजों की जांच की।
क्या है मामला?

जिप अध्यक्षा नैना कुमारी ने लिखित आवेदन में शिकायत की थी कि जिला परिषद कार्यालय के पीछे 15 विशाल पेड़ एवं शेरघाटी एसडीओ आवास में 25 विशाल हरा-भरा पेड़ के अलावा अन्य स्थानों पर विशाल पेड़ को काटकर निवर्तमान अध्यक्षा करुणा कुमारी द्वारा बेच दिया गया है। इस मामले की भी अधिकारियों द्वारा जांच की जा रही है। दिए गए आवेदन में जिप अध्यक्षा ने इमामगंज बस स्टैंड के वर्ष 2021 में बंदोबस्ती की राशि के बदले सात लाख रुपए का फर्जी चेक जमा करने की भी शिकायत की थी। इसके अतिरिक्त जिप अध्यक्ष आवास में सरकारी राशि से खरीदे गए सामरन को निवर्तमान अध्यक्ष करुणा कुमारी आवास खाली करने के समय साथ लेकर चली गई हैं।

खबरें और भी हैं...