पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सुस्ती:रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन सिस्टम से नहीं लैस हुआ मविवि का केंद्रीय पुस्तकालय

बोधगयाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिहार में पहली बार पुस्तकों को ट्रैक करने के लिए लागू की जानी थी यह तकनीक

मगध विवि का केंद्रीय मन्नूलाल पुस्तकालय रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन सिस्टम से लैस होना था। तत्कालीन कुलपति प्रो कमर अहसन ने अप्रैल 2017 में इसकी शुरूआत को पहल की थी। उनके जाने के बाद विवि ने इस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया। ऑटोमेशन के तहत इस तकनीक के उपयोग से कम समय में पुस्तकों की ट्रैकिंग व रखरखाव संभव है। बिहार में इस तकनीक को फिलहाल किसी अन्य संस्थान में नहीं हो रहा है, उपयोग करने वाला मगध विवि पहल संस्थान होता।

मगध विवि की 1962 में स्थापना के दौरान गया में संचालित मन्नूलाल पुस्तकालय के संचालकों ने 16 हजार पांडुलिपियों व दुर्लभ पुस्तकों को दान स्वरूप भेंट किया था। इसी दान के साथ मगध विवि के केंद्रीय पुस्तकालय मन्नूलाल केंद्रीय पुस्तकालय की यात्रा शुरू हुई। आज इस पुस्तकालय में एक लाख 62 हजार 161 पुस्तकें व 85 हजार पत्रिकाएं हैं। पुस्तकालय की अमूल्य धरोहरों में पांडुलिपियों व दुर्लभ पुस्तकों के अलावा दुर्लभ समाचार पत्रों का संग्रह है।
सुरक्षा सिस्टम का भी काम
यह सिस्टम पुस्तक के टैग में पहचान संबंधित जानकारी हो सकती है, जैसे एक पुस्तक का शीर्षक या सामग्री प्रकार, जिसके तहत एक अलग डाटाबेस की ओर इशारा करने की आवश्यकता नहीं होगी। सूची प्रबंधन का यह एक अलग तरीका होगा और लेने वालों को स्वयं सेवा प्रदान करेगा। यह एक सुरक्षा उपकरण के रूप में भी कार्य कर सकता है। इससे पुस्तकों की रिपटीटीव मोशन इन्जुरीज को कम किया जा सकता है। इन सब के साथ, वस्तुसूची को कुछ सेकंड के भीतर, एक पूरे शेल्फ पर किया जा सकेगा, जिसके तहत एक भी पुस्तक को आलमारी से हटाना नहीं पड़ेगा।
मिलता स्मार्ट कार्ड
छात्रों को न्यूनतम राशि पर स्मार्ट कार्ड मिलता, जिसपर रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन सिस्टम लगा होता। इससे इस तकनीक का लाभ उठाया जा सकता था। छात्रों को उनके वांछित पुस्तकों की पूरी जानकारी तत्काल मिलती। यही नहीं, अगर पुस्तक के नाम की जानकारी नहीं है, तब कंटेटं्स के आधार पर पुस्तकों का विकल्प भी मिलता।
क्या था फायदा
रेडियो आइडेंटिफिकेशन सिस्टम में रेडियो तरंगों के इस्तेमाल से पुस्तकों की पहचान करने और ट्रैकिंग के उद्देश्य से इसे लगाया या डाला जाता है। यह प्रबंधन में प्रयोग किया जाता है, ताकि वस्तुसूची पर नजर रखने में और प्रबंधन की कुशलता में सुधार किया जा सके। कम समय में पुस्तकों की जानकारी मिल सकेगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें