• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya
  • Bihar News; Operation Of Passenger And Special Trains Stopped During Corona Period Started From August 1

यात्रीगण कृपया ध्यान दें...:कोरोना काल में बंद की गई पैसेंजर और स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू, 1 अगस्त से गया-जमालपुर पैसेंजर स्पेशल फिर से ट्रैक पर दौड़ेंगी

गयाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रेनें विभिन्न स्थानों के लिए पूर्व के माफिक दौड़ने जा रही हैं तो पैसेंजर के साथ ही रेलवे को भी लाभ पहुंचेगा। - Dainik Bhaskar
ट्रेनें विभिन्न स्थानों के लिए पूर्व के माफिक दौड़ने जा रही हैं तो पैसेंजर के साथ ही रेलवे को भी लाभ पहुंचेगा।

कोविड-19 महामारी व लॉकडाउन के बीच पैसेंजर ट्रेनों के रद्द किए परिचालन 1 अगस्त से शुरू होने जा रहा है। इसके परिचालन के शुरू होते ही अब जनरल टिकटों की बुकिंग भी रेलवे टिकट घर के काउंटरों से शुरू होने जा रही है। यह सेवा 31 जुलाई से रेल यात्रियों को मिलनी शुरू हो जाएगी। इसकी तैयारी रेलवे प्रबंधन की ओर से पूरी कर ली गई है। रेल प्रबंधन की मानें तो बीते कुछ दिनों से रेल यात्रियों द्वारा पैसेंजर ट्रेनों का संचालन किए जाने की जबर्दस्त मांग थी। उनकी मांग को देखते हुए पैसेंजर ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा रहा है। साथ ही ट्रेन के साधारण टिकटों की बुकिंग भी।

CPRO राजेश कुमार ने बताया कि ट्रेन संख्या 03616 गया-जमालपुर पैसेंजर स्पेशल का परिचालन एक अगस्त से शुरु होने जा रहा है। यह ट्रेन गया से 3 बजे दोपहर को जमालपुर के लिए चलेगी जो सभी बड़े छोटे स्टेशनों से होते हुए जमालपुर 9:30 बजे पहुंचेगी। वहीं ट्रेन जमालपुर से 3615 जमालपुर से 2 अगस्त को सुबह आठ बजकर 15 मिनट पर गया के लिए खुलेगी। जो गया 3 बजे पहुंचेगी। इसके अलावा ट्रेन संख्या 3628 गया-किऊल स्पेशल ट्रेन एक अगस्त को गया से 7:30 बजे किऊल के लिए चलेगी जो 12:20 बजे किऊल पहुंचेगी। यहीं ट्रेन 03627 बनकर गया के लिए 2 अगस्त को 5:45 मिनट पर गया के लिए चलेगी जो रास्ते में सभी बड़े छोटे स्टेशनों से होते हुए गया 11:15 मिनट पर पहुंचेगी।

इसी के साथ ही गया रेलवे प्रबंधन स्टेशन पर पैसेंजरों के मद्देनजर सभी सुविधा को दुरुस्त करने में जुट गई है। रेलवे की माने तो कोविड-19 महामारी व लॉकडाउन की वजह से रेलवे को जबर्दस्त आर्थिक नुकसान का उठाना पड़ा है। लगातार ट्रेनों के परिचालन बाधित होने की वजह से टिकट की बुकिंग बंद सी हो गई थी। जो ट्रेनें चल भी रही थीं उन्हें पर्याप्त संख्या में पैसेंजर नहीं मिल रहे थे। अब ट्रेनें विभिन्न स्थानों के लिए पूर्व के माफिक दौड़ने जा रही हैं तो पैसेंजर के साथ ही रेलवे को भी लाभ पहुंचेगा।

खबरें और भी हैं...