गया में प्रतिमा से पहले निकली मय्यत:लोगों ने खुद रोका विसर्जन जुलूस, धर्म पर इंसानियत को दी तरजीह

गया4 महीने पहले

जिले के मानपुर प्रखंड के विभिन्न इलाकों से विसर्जन को निकली प्रतिमाओं को संवदेनशील क्षेत्र अबगीला से कड़ी सुरक्षा के बीच निकाली गई। हालांकि तेजी से अबगीला से प्रतिमा को नहीं निकालने के मसले पर मुफस्सिल पुलिस की ओर से विसर्जन में शामिल लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने की दी गई धमकी के विरोध में लोग नाराज हो गए थे। वह मौके पर प्रतिमा के साथ खड़े हो गए थे। लेकिन मौके पर मौजूद वरीय पुलिस अधिकारियों ने मसला संभाला और एक-एक कर प्रतिमाएं शांति पूर्वक निकाली गई।

एएसपी मनीष कुमार खुद मोर्चा संभाले हुए थे। खास बात यह भी रही कि जिस समय प्रतिमा विसर्जन को बड़ी भीड़ के साथ अबगीला से जुलूस निकल रहा था उसी समय एक मय्यत का भी निकलना था। मय्यत को मस्जिद लाया जाना था लेकिन जुलूस की वजह से समस्या हो रही थी। लेकिन दोनों पक्षों ने सौहार्द का परिचय दिया और जुलूस को रोक दिया गया, सड़क खाली कराई गई और फिर मय्यत को मस्जिद में जनाजे की नमाज के लिए ले जाया गया। इसके बाद ही जुलूस विसर्जन को आगे बढ़ा।

दरअसल मानपुर के रसलपुर, लखनपुरा, बाराडीह और ब्लाक इलाके में बड़े स्तर पर माता की प्रतिमा स्थापित की जाती है और बड़े ही धूम धाम से विसर्जन का जुलूस भी निकाला जाता है। चूंकि विसर्जन के लिए जाने का रास्ता मुसलिम बहुल इलाका अबगीला से होकर िनकलता है। इस वजह है कि यहां पर पुलिस को अधिक चौकन्ना रहना पड़ता है। भारी पुलिस बल के बीच चारो गांवों की प्रतिमाओं को निकाला गया। जुलूस में गांव के युवाओं ने एक से बढ़ कर एक करतब भी दिखाए।

खबरें और भी हैं...