पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयंती समारोह:साहित्यिक इतिहास को पं.सतीश ने नाटक के रूप में समेटा

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • समाजवादी लोक परिषद् व मगही साहित्य संगम के बैनर तले दो दिवसीय कार्यक्रम शुरू, आज होगा सम्मान समारोह

शहर के विष्णुपद स्थित शगुन गेस्ट हाउस में समाजवादी लोक परिषद् व मगही साहित्य संगम के बैनर तले शनिवार को प्रखर साहित्यकार पंडित सतीश कुमार मिश्र ‘बाबूजी’ की जयंती पर दो दिवसीय सम्मान समारोह 2021 का आयोजन शुरू हुआ। उद्घाटन उनके चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर किया गया।

इसके बाद साहित्यकारों व कवियों ने पं. मिश्र के जीवनी पर प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि के रूप में आए साहित्यकार रामकृष्ण मिश्र ने उनकी गरिमा व संघर्ष से लोगों को अवगत कराया। कहा कि पं. मिश्र साठोतरी पीढ़ी के पदचाप के साथ हिन्दी मगही साहित्य संसार के क्षितिज पर आंधी तूफान की बौछार को सहते हुए तट तक पहुंच साहित्य की विभिन्न विधाओं कथा, पटकथा, काव्य, नाटक, निबंध पर अमित हस्ताक्षर करते हुए सदा जन मन के सुख-दु:ख का गीत गाते रहे।

वहीं साहित्यकार मनोज कुमार मिश्र ने उनकी जिजीविषा शक्ति व दूरदर्शिता पर प्रकाश डाला। कहा कि बाबूजी ने साहित्य क्षेत्र में वह रचना कर डाली तो अभी तक असंभव मालूम हुआ करती थी। हिन्दी के हजार साल के इतिहास को उन्होंने नाटक विद्या में समेट डाला और हमारे समक्ष रख दिया।
समाजवादी लोक परिषद् बाबूजी को मानती हैं आदर्श: परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष हेमांशु शेखर ने पं. मिश्र के प्रति अपना भाव व्यक्त किया। कहा कि मुझे तो उनके दर्शनों के लाभ नित्य प्रति होते रहे है। समाजवादी लोक परिषद् बाबूजी को अपना आदर्श मानती है। कन्हैयालाल मेहरवार ने कहा कि पंडित सतीश कुमार मिश्र की पहचान मगही भाषा के साहित्यिक व्यक्तित्व के रूप में विशेष तौर पर मिली, किन्तु वास्तव में वे सदैव ही सांस्कृतिक धरोहर को सहेजने के लिए क्षेत्रिय भाषाओं की अस्मिता के संरक्षण पर बल देते रहे।
साहित्य में उत्कृष्ट कार्य करने वाले तीन लोग हुए सम्मानित
साहित्य के क्षेत्र में अमूल्य और सराहनीय कार्य करने वाले तीन साहित्यकारों को सम्मानित किया गया। सम्मान पाने वालों में रामकृष्ण मिश्र, कन्हैयालाल मेहरवार, सत्येंद्र कुमार पाठक शामिल है। इन साहित्यकारों ने भी बाबूजी के प्रति अपनी श्रद्धा व उनके साथ के अपने संस्मरण बताते हुए उनके आदर्शों को आदर्श पथ बताया। साहित्यकारों ने उनकी कविताओं के साथ ही अपनी कविता का पाठ किया। इस दौरान कई लोग मौजूद थे। आज शेरघाटी में होगा दो दिवसीय सम्मान समारोह का समापन
दो दिवसीय सम्मान समारोह का समापन रविवार को शेरघाटी में किया जाएगा। यहां संत कोलंबस इंटरनेशनल स्कूल में भी साहित्यकारों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर साहित्यकार राजीव रंजन, गजेन्द्र लाल अधीर, कुमारकांत, रामसिंहासन सिंह, सच्चिदानंद प्रेमी, सुरेन्द्र सिंह सुरेन्द्र, सुमंत, खालिक हुसैन परदेशी, सुल्तान अहमद, गुड्‌डू मिश्र, मुकेश मिश्र, अनिल कुमार, दिलीप कुमार, बिट्‌टू कुमार समेत कई लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें