पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बरसी:गरीबों, दलितों और पिछड़ों की अवाज थे रामविलास पासवान, मिले भारत रत्न

गया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस बीच उन्होंने कहा कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री पासवान समाज के शान थे

शहर के कंडी गांव में रविवार को लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक सह पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. रामविलास पासवान की बरसी अखिल भारतीय दुसाध महासभा के बैनर तले मनाई गई। सर्वप्रथम महासभा के लोगों ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित किया। नेतृत्व पूर्व प्रत्याशी सह संयोजक जितेन्द्र कुमार पासवान ने किया। इस बीच उन्होंने कहा कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री पासवान समाज के शान थे।

भारत के दूसरा अंबेडकर, गरीबों के मसीहा व दलित-पिछड़ों की आवाज थे। आज वे हम सभी के बीच नहीं है, पर उनकी बातें उनका कार्य सभी के दिलों में है। वे हमेशा याद आते रहेंगे। उन्होंने सरकार से स्व. पासवान को भारत रत्न सम्मान व आठ अक्टूबर को भारतीय अवकाश के रूप में मनाने की मांग की। श्री पासवान ने कहा कि दलित-पिछड़ों को एक होना चाहिए, तभी मान-सम्मान के साथ अधिकार प्राप्त होगा। इस मौके पर देवराज पासवान, देव आनंद यादव, महेश चौधरी, संजय पासवान, उमाप्रकाश पासवान, चंदन पासवान, गौरव पासवान, गांधी पासवान, द्वारिक पासवान, अनिल चौधरी, भुषन पासवान, सुमंत पासवान, विनोद पासवान, शुभम पासवान, राजेंद्र पासवान, अंबिका पासवान, बिंदेश्वर पासवान, सुरेंद्र पासवान आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...