राष्ट्रीय सेवा को बढ़ावा देने दिया जाता है एनएसएस अवार्ड:राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार के लिए गया के शैलेंद्र का किया गया चयन

गया19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गया के शैलेंद्र कुमार को राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कार मिलेगा। राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार 2022 के लिए शैलेंद्र का चयन हुआ। राष्ट्रीय सेवा योजना के स्थापना दिवस पर 24 सितंबर को राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में यह पुरस्कार मिलेगा।

भारत में राष्ट्रीय सेवा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राष्ट्रीय सेवा योजना पुरस्कार दिया जाता है। शैलेंद्र मगध विश्वविद्यालय बोधगया राष्ट्रीय सेवा योजना के सीनियर स्वयंसेवक और स्नातकोत्तर भूगोल विभाग के छात्र हैं। जगजीवन महाविद्यालय, गया से भूगोल विषय में स्नातक की पढ़ाई पूरी करने वाले शैलेंद्र वर्ष 2016 में राष्ट्रीय सेवा योजना से जुड़े और सामाजिक गतिविधियों में भाग लेना शुरू कर दिया। उनके सक्रिय सामाजिक कार्यों को देखते हुए वर्ष 2018 में जगजीवन महाविद्यालय के तत्कालीन प्रधानाचार्य डॉ. सुमन और प्रोग्राम ऑफिसर डॉ. रतिकांत दास ने इन्हें कॉलेज एनएस एस टीम लीडर की जिम्मेदारी सौंपी। उसके बाद शैलेंद्र ने जगजीवन महाविद्यालय परिसर फल्गु नदी के किनारे और अगल बगल के गांव में हजारों पौधे लगाए और उनकी देखभाल की। वे पौधे आज हरा-भरा वृक्ष बन चुके हैं। शैलेंद्र नीमचक बथानी प्रखंड के खुखरी गांव के राजाराम साव और स्वर्गीय राजमणि देवी के पुत्र हैं। इन्होंने अपने गांव के प्राथमिक विद्यालय खुखरी, आदर्श मध्य विद्यालय सरबहदा और आदर्श उच्च विद्यालय खुदई सरबहदा से पढ़ाई की है।

इनके सामाजिक कार्यों को देखते हुए गया लोकसभा के सांसद विजय मांझी, बिहार सरकार के पूर्व कृषि मंत्री व गया नगर के विधायक डॉ. प्रेम कुमार, नीमचक बथानी के विधायक अजय कुमार उर्फ़ रंजीत यादव, पूर्व प्रमुख मनोज कुशवाहा, पूर्व मुखिया आदि भी प्रशस्ति पत्र देकर इन्हें प्रोत्साहित कर चुके हैं। एमयू के वीसी,

खबरें और भी हैं...