बिहार में जहरीली शराब से 10 की मौत, 10 गंभीर:गया में 3 और औरंगाबाद में 7 ने तोड़ा दम, परिवार बोला- शराब पीने के बाद बिगड़ी तबीयत

गया3 महीने पहले

बिहार में जहरीली शराब से 10 लोगों की मौत हो गई है। गया में 3 लोगों की मौत हुई है। 7 लोगों की हालत गंभीर है। सभी का इलाज जारी है। वहीं, औरंगाबाद में शराब पीने के बाद देर शाम तक 7 लोगों की मौत हुई है। तीन की स्थिति गंभीर है, जिनका इलाज जारी है। परिवार का कहना है कि सभी ने सोमवार शाम एक साथ शराब पी थी। इसके बाद सभी की तबीयत बिगड़ने लगी। पेट दर्द, उल्टी-दस्त के बाद अस्पताल ले गए, लेकिन इलाज के दौरान मौत हो गई।

औरंगाबाद में जहरीली शराब से 7 की मौत!

औरंगाबाद में मंगलवार को जहरीली शराब से मरनेवालों की संख्या 7 हो गई है, जबकि तीन की स्थिति नाजुक बनी हुई है। परिजनों का कहना है कि सभी ने सोमवार रात में मदनपुर थाना इलाके के खिरियावां गांव में शराब पी थी। सुबह में तबीयत बिगड़ने लगी। आननफानन में अस्पताल ले गए। यहां तीन लोगों ने दम तोड़ दिया। बाद में शेरघाटी अस्पताल में इलाजरत दो लोगों की मौत हुई। फिर देर शाम दो और मौतों की खबर आई है। इनमें जोगड़ी गांव निवासी 50 वर्षीय रामजी यादव व पड़रिया गांव निवासी दिलकेश्वर महतो शामिल हैं।

डीएम सौरभ जोरवाल ने शाम तक 5 में से 3 की मौत शराब से होने की बात कही थी। अन्य की मौत हार्ट अटैक या अन्य बीमारी से होने की आशंका जताई। डीएम ने कहा कि मामले में लगातार कार्रवाई की जा रही है। अब तक 70 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। अभी कार्रवाई जारी है, और लोग गिरफ्त में आएंगे।

पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दे सकते हैं...

गया में मृतकों के परिजनों बोले

मामला नक्सल प्रभावित इलाके आमस के पथरा गांव का है। सोमवार देर रात 2 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। 2 लोगों को मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर किया गया था। जिसमें एक ने दम तोड़ दिया। गया में मौत का आंकड़ा 3 हो गया है। बाकी 7 लोग आमस के सरकारी अस्पताल में भर्ती हैं।

परिजनों का साफ-साफ कहना है कि मरने वालों ने सोमवार की रात शराब पी थी। जहरीली शराब पीने से ही उनकी मौत हुई है। मरने वालों के नाम अर्जुन पासवान और अमर पासवन थे। दोनों चाचा-भतीजा हैं। मगध मेडिकल कॉलेज में अजय पासवान और सुमन पासवान का इलाज चल रहा है।

पापा रात में शराब पीकर आए थे

मगध मेडिकल कॉलेज में रेफर किए मरीजों में से एक बच्ची ने बताया कि उसके पापा रात में शराब पी कर घर आए थे। रात 9 बजे के आसपास उनकी तबीयत बिगड़ी। उन्होंने कहा कि पेट में काफी दर्द हो रहा है। उलटी और दस्त भी करने लगे। इस पर उन्हें आमस सरकारी अस्पताल में ले जाया गया।

वहां के डॉक्टरों ने कहा कि कुछ नहीं है शराब पीने से तबीयत बिगड़ी है। इसके कुछ देर बाद उनकी तबीयत और भी बिगड़ने लगी। इस पर डॉक्टरों ने उन्हें मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया। वहीं दूसरी ओर गांव के लोग आमस थाना परिसर, आमस अस्पताल में बड़ी संख्या में डेरा डाले हुए हैं।

बहरहाल मौत कैसे हुई है। इस बाबत प्रशासन की ओर से कोई पुष्टि नहीं की है, लेकिन पीड़ित परिवार व गांव वाले साफ तौर पर कह रहे हैं कि जहरीली शराब पीने की वजह से ही लोगों की मौत हुई और तबीयत बिगड़ी है।

खबरें और भी हैं...