शोध:महामारी ने तेल, गैस व फार्मा क्षेत्रों के शेयर पर डाला प्रभाव

गया19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ धरेन व विनीता फ़ाइल फोटो - Dainik Bhaskar
डॉ धरेन व विनीता फ़ाइल फोटो
  • मगध विवि वाणिज्य विभाग के डॉ. धरेन कुमार पाण्डेय व विनीता कुमारी, पश्चिम बंगाल के प्रो. प्रदीप्ता ने किया है शोध

कोविड 19 महामारी ने ऑटो, तेल व गैस, हेल्थकेयर और फार्मा क्षेत्रों के शेयर पर सकारात्मक प्रभाव डाला है। जहां बैंक, वित्तीय सेवाएं और निजी बैंक क्षेत्र सबसे अधिक प्रतिकूल रूप से प्रभावित हुए हैं, वहीं पीएसयू बैंक, मीडिया और रियलिटी क्षेत्र सबसे कम प्रभावित हुए हैं और बाकी क्षेत्र मामूली रूप से प्रभावित हुए हैं। मगध विवि वाणिज्य विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. धरेन कुमार पाण्डेय ने उक्त बातें कही। उन्होंने केस स्टडी के आधार पर कहा कि इवेंट विंडो के भीतर संवेदनशील दिनों के विश्लेषण से पता चलता है कि कोविड की अवधि एक निरंतर घटना थी, जब स्टॉक रिटर्न को प्रभावित करने वाली कई खबरें प्रसारित हुईं।

इसलिए महामारी घोषणा के वास्तविक प्रभाव की जांच करने के लिए, इवेंट विंडो टी-3 से टी प्लस 3 ने सर्वोत्तम परिणाम दिए हैं। यह परिणाम इस लिए बेहतर रहा, क्योंकि मध्यम और लंबी विंडो में रिटर्न कुछ अतिव्यापी घटनाओं से प्रभावित हो कर हुआ। केस स्टडी पद्धति और एक सामान्यीकृत ऑटोरेग्रेसिव कंडीशनल हेटेरोस्केडैस्टिसिटी (गार्च) मॉडल का उपयोग करके नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के विभिन्न क्षेत्रीय सूचकांकों पर कोविड -19 के प्रभाव की आनुभविक रूप से जांच की हैं।

दूसरी लहर में अलग रहा प्रभाव
गार्च मॉडल के परिणाम एफएमसीजी, आईटी, धातु, तेल व गैस, और पीएसयू बैंक क्षेत्रों पर नकारात्मक प्रभाव प्रकट करता है। निष्कर्ष पिछले शोध के अनुरूप है, जहां गार्च मॉडल के साथ वित्तीय बाजारों पर नकारात्मक प्रभाव के प्रमाण दिए गए हैं। इसके अलावा, सहसंबंध गुणांक इंगित करता है कि पिछली लहरों की तुलना में महामारी की दूसरी लहर के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के लिए बाजार की प्रतिक्रिया अलग-अलग रही है। कुछ क्षेत्रों को छोड़कर सभी गंभीर रूप से प्रभावित हुए थे। इसका कारण बाजार के पिछले वर्ष के अनुभव, विभिन्न क्षेत्रों के लिए सरकार के प्रोत्साहन पैकेज और टीकाकरण अभियान है।

इन तीनों की है शोध
मगध विवि स्नातकोत्तर वाणिज्य विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. धरेन कुमार पाण्डेय व विनीता कुमारी एवं सिद्धो कान्हो बिरसा विवि, पुरुलिया, पश्चिम बंगाल के वाणिज्य संकाय के प्रो. प्रदीप्ता बनर्जी का लेख इंडरसाइंस की पत्रिका इंटरनेशनल जर्नल ऑफ इंडियन कल्चर एंड बिजनेस मैनेजमेंट में प्रकाशन हेतु स्वीकृत कर ली गयी है। शोध का विषय है कोविड -19 पर क्षेत्रीय सूचकांक कैसे प्रतिक्रिया करते हैं? एक उभरती अर्थव्यवस्था से साक्ष्य। यह पत्रिका एबीएस, यूजीसी केयर व वेब ऑफ साइंस में अनुक्रमित है। शोध में बैंक, वित्तीय सेवाओं और निजी बैंक क्षेत्रों के लिए प्री-इवेंट विंडो में आर्च और गार्च प्रभावों की उपस्थिति और कोविड अवधि में अस्थिरता प्रभाव की अनुपस्थिति पाते हैं।

अन्य शोध को करेगा मदद
हालांकि अध्ययन भारतीय साक्ष्य प्रदान करता है, पर यह क्षेत्रीय और वैश्विक वित्तीय बाजारों के संदर्भ में विभिन्न क्षेत्रीय सूचकांकों पर महामारी के प्रभावों के साथ निष्कर्षों की तुलना करने हेतु आगे के शोध के लिए मार्गदर्शन प्रदान करता है। इसके अलावा, इस शोध के निष्कर्ष व्यक्तिगत और कॉर्पोरेट निवेशकों को महामारी की स्थिति में अपने पोर्टफोलियो का चयन और मूल्यांकन करने में सशक्त बनाने की भूमिका अदा करेगा।

खबरें और भी हैं...