चेक डैम बना बंजर भूमि तक पहुंचाया पानी:जल-जीवन-हरियाली से सिंचाई साधन को संवार रहीं झाझ पंचायत की मुखिया

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिंचाई के लिए बना चेकडैम। - Dainik Bhaskar
सिंचाई के लिए बना चेकडैम।

जल जीवन हरियाली का लाभ दिखने लगा है। सरकार की इस योजना को क्रियान्वित कर गया के बाराचट्टी प्रखंड की सुदूरवर्ती झाझ पंचायत की मुखिया नीलू कुमारी ने तीन चेक डैम का निर्माण कर बंजर भूमि पर हरियाली लाने का काम किया है। अति पिछड़ा वर्ग से मुखिया बनी नीलू ने चुनाव जीतने के बाद से ही पंचायत मे कृषि में सिंचाई की व्यवस्था को लेकर प्रयासरत थी।

परंतु सरकार की योजनाएं इस दायरे से काफी दूर थी। लेकिन जैसे ही जल जीवन हरियाली योजना का शुभारंभ पंचायत से होना तय हुआ, मुखिया ने तुरंत बेकार बह जाने वाले पानी को रोककर खेतों के पटवन की सोच बनाईं और योजनाओं को धरातल पर लाया। इससे आज बंजर भूमि तक पानी पहुंच रहा है और किसान खेती किसानी का काम कर रहे हैं।

किसान बोले-अब करते हैं दो फसल की खेती
किसान बिरजू मंडल बताते हैं कि हम लोगों की खेती भगवान के भरोसे होती थी। लेकिन इस बांध के बनने से खेत का पटवन कर खेती कर रहे हैं। वहीं कृष्णा मंडल, रामजी मंडल, कुलेश्वर मंडल, रामबली मंडल, गज्जू मंडल बताते हैं कि पहले खेती के लिए किसी तरह चांड चलाकर धान का रोपनी करते थे। लेकिन अब वह समस्या समाप्त हो गई।

सरकार की योजना से क्षेत्र में आई हरियाली

  • जनता के मार्गदर्शन व अफसरों के सहयोग से बंजर भूमि तक पानी पहुंचाया। सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी मनरेगा की देन है कि हम अपने पंचायत में जल जीवन हरियाली योजना के तहत तीन जगहों पर चेक डैम का निर्माण कराया और बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने का काम किया। -नीलू कुमारी, मुखिया ग्राम पंचायत झाझ

तीन जगह पर बनाए गए हैं चेक डैम
पंचायत में चेक डैम का निर्माण कर बंजर भूमि को कृषि योग्य बनाने का काम महिला मुखिया ने किया। इससे आज नाले के इर्द-गिर्द सभी क्षेत्रों में जो भूमि बंजर हुआ करता था, वहां अब हरियाली ही हरियाली नजर आती है।

खबरें और भी हैं...