पेट्रोल पंप, बस और JCB में आग लगाने वाला गिरफ्तार:कुख्यात KK टाइगर को पुलिस ने सारनाथ से पकड़ा, उग्रवादी संगठन से है पुराना रिश्ता

गया4 महीने पहले
बदमाशों ने पेट्रोल फूंक दिया था।

गया के नक्सल आधार वाला बांकेबाजार थाना क्षेत्र में केके टाइगर नाम से वारदात कर आम आदमियों को दहशत में लाने वाला गिरोह पकड़ा गया। इस गिरोह का मुखिया छोटू चौधरी उर्फ नन्हका उर्फ धनन्नजय चौधरी उर्फ केके टाइगर नक्सली संगठन टीपीसी का सक्रिय सदस्य निकला। टीपीसी से इन दिनों दूरी बना कर वह नक्सली के तर्ज पर ही लेवी की मांग कर रहा था और रंगदारी न देने पर बेखौफ होकर नक्सली संगठन की तरह ताबड़तोड़ वारदात को अंजाम दिए जा रहा था। पुलिस ने इन अपराधियों को रेग्यूलर पिस्टल, देसी कट्‌टा और जिंदा कारतूस के साथ बरामद किया है।

एसएसपी हरप्रीत कौर ने बताया कि बीते बांकेबाजार और रोशनगंज थाना क्षेत्र में केके टाइगर नाम से एक गिरोह रंगदारी की मांग के साथ ही बांकेबाजार स्थित अन्नया पेट्रोल पंप, निर्माण कंपनी की जेसीबी को आग के हवाले कर दिया था। पेट्रोल पंप को आग के हवाले कर इस गिरोह का मुखिया छोटू चौधरी उर्फ नन्हका उर्फ धनन्नजय चौधरी उर्फ केके टाइगर सारनाथ में जाकर छिप गया था। लेकिन उसके साथियों की बाइक पेट्रोल पंप जलाने से पूर्व पेट्रोल कमिर्यों और गांव वालों द्वारा खदेड़े जाने के दौरान पकड़ी गई थी।

अपराधी बाइक छोड़ कर भाग गए थे। बाइक के आधार पर लोकल इंटेलिजेंस के आधार पर जब इन अपराधियों के इनपुट मिलने शुरू हुए तो पता चला कि केके टाइगर नाम से गिरोह चलाने वाला रोशनगंज थाना क्षेत्र के लेम्बाइया गांव का रहने वाला है। उसका साथी भी विकास चौधरी भी उसी गांव का रहनेवाला है। पुलिस ने जब गहराई छानबीन की और विकास चौधरी को साक्ष्य के आधार पर गिरफ्तार कर लिया गया।

यही नहीं जिस सिम से लेवी मांगी गई थी उसे भी बरामद कर लिया गया। इसके बाद पूछताछ में विकास चौधरी ने बताया कि छोटू चौधरी यूपी के सारनाथ को निकल गया है। इस पर पुलिस ने जांच के आधार पर मोबाइल लोकेशन की मदद से छोटू चौधरी को भी गिरफ्तार कर लिया । इस बीच दूसरी टीम ने उदय चौधरी को भी गिरफ्तार कर लिया। हरप्रीत कौर ने बताया कि छोटू चौधरी का नक्सली संगठन टीपीसी से पूर्व में नाता रहा है। उसके अपराध की लंबी फेहरिस्त है। वर्ष 2019 से लेकर अब तक 12 संगीन धाराओं में केस दर्ज किए जा चुके हैं। वह बीते जनवरी में ही जेल से छूट कर आया था।