UP पुलिस को नहीं पता बिहार में शराबबंदी हैं:बोधगया महोबोधि मंदिर में शराब ले जाते पकड़ाएं इंस्पेक्टर और सिपाही, कहा- हम तो परिसर में शराब पीने आए थे

गया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
UP पुलिस को नहीं पता बिहार में शराबबंदी हैं। - Dainik Bhaskar
UP पुलिस को नहीं पता बिहार में शराबबंदी हैं।

बिहार में शराब प्रतिबंधित है। यह प्रतिबंध 2016 से लगातार जारी है। इस बात को देश दुनिया के लोग जान गए हैं लेकिन यूपी पुलिस इस बात से अब भी अंजान है। इस बात की तस्दीक बोधगया मंदिर में शनिवार शाम प्रवेश कर रहे यूपी पुलिस के दो कर्मियों के पास से शराब की बोतलों का पकड़ा जाना कर रही है। शराब के साथ पकड़े जानों वालों में एक इंस्पेक्टर तो दूसरा सिपाही है। दोनों यूपी के चंदौली थाना में तैनात हैं।

बोधगया थाने की पुलिस ने दोनों को शराब के साथ गिरफ्तार कर लिया है। देर रात उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई को अंतिम परवान दिए जा रहे थे। खास बात यह भी है कि चेकिंग के दौरान जब दोनों पुलिस कर्मी पकड़े गए तो वे खुद को यूपी पुलिस का कर्मी होने का धौंस जांच में जुटे बीएमपी के जवानों व अधिकारियों को दे रहे थे। लेकिन बीएमपी के जवानों के सामने उनकी एक नहीं चल सकी और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

बोधगया थानाध्यक्ष रुपेश कुमार ने बताया कि यूपी चंदौली थाने में तैनात इंस्पेक्टर संतोष कुमार और सिपाही आयुष कुमार बोधगया घूमने आए थे। दोनों पुलिस कर्मी एक बैग के साथ महोबोधि में प्रवेश कर रहे थे। चूंकि महाबोधि मंदिर में प्रवेश करने से पहले दो जगह दो बार लग्गेज स्कैन किया जाता है। पहले स्थान पर लग्गेज स्कैन किए जाने के दौरान पुलिस कर्मियों के बैग में संदिग्ध वस्तु होने के संकते मशीन ने दिए जो मंदिर परिसर की सुरक्षा व जांच पड़ताल में जुटे सभी पुलिस कर्मियों के कान खड़े हो गए।

उन्होंने बैग की फिजिकल जांच की तो उसमें से शराब की बोतल निकली। शराब की बोतल निकलते ही यूपी पुलिस कर्मी बीएमपी के जवानों पर ही अकड़ दिखाने लगे। लेकिन बीएमपी के जवान व उनके अधिकारी अपनी ड्यूटी पर अड़े रहे और उनकी एक नहीं सुनी। इसके बाद बोधगया थाने के इंस्पेक्टर को मौके पर बुलाया गया। और बोधगया थाने की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में बोधगया पुलिस को यूपी के पुलिस कर्मियों ने बताया है कि वह मंदिर परिसर के गार्डेन में शराब पीने के मन से महोबोधी परिसर में प्रवेश करने आए थे।