लापरवाही / बच्चे को टीका दिलवाने अस्पताल पहुंची महिला, कर्मी बोले-प्राइवेट में दिलवा लें

Women arrived at the hospital to get the child vaccinated, personnel said - get it done in private
X
Women arrived at the hospital to get the child vaccinated, personnel said - get it done in private

  • निमोनिया का टीका पीसीवी होने के बावजूद किया इनकार, अस्पताल प्रशासन ने लिया संज्ञान
  • टीकाकरण की सर्वोत्तम व्यवस्था कुछ कर्मियों की लापरवाही से हो रही प्रभावित

दैनिक भास्कर

May 16, 2020, 05:44 AM IST

गया. सरकार की ओर से सभी सरकारी अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं व बच्चों को टीकाकरण की सर्वोत्तम व्यवस्था कुछ कर्मियों की लापरवाही के कारण प्रभावित हो रही है। कुछ ऐसा ही मामला शुक्रवार को सदर जेपीएन अस्पताल में देखने का मिला जब टीका रहने के बावजूद एक मां को अस्पताल कर्मियों ने लौटा दिया। औरंगाबाद जिले के उपहारा थानांतर्गत गईनी की स्मिता शर्मा अपने पति रामकिंकर शर्मा के साथ हैदराबाद में रहती है। मार्च में वह औरंगाबाद आई थी और लॉकडाउन के कारण हैदराबाद नहीं लौट सकी।

स्मिता के छह माह के बेटे श्रेयांस को निमोनिया का टीका पीसीवी दिलाने का समय आया तो वह अपने भाई रवि के साथ गया पहुंची। गया के सदर जेपीएन अस्पताल में जब वह बच्चे का टीका दिलवाने पहुंची तो वहां टीकाकरण केन्द्र में मौजूद कर्मियों ने कहा कि यह टीका यहां नहीं पड़ेगा, आप प्राइवेट में दिलवा लें। जब स्मिता प्राइवेट क्लिनिक में गई तो टीका के लिए 38 सौ रुपए की मांग की गई।
फिर स्मिता के भाई रवि ने अपने जान-पहचान के श्रीमहावीर सोशल डेवलपमेंट के संचालक आशुतोष कुमार से इस बात की चर्चा की। आशुतोष ने स्थानीय दैनिक भास्कर के संवाददाता से संपर्क कर मामले की जानकारी दी। आखिरकार दैनिक भास्कर की पहल और अस्पताल प्रशासन के सहयोग से बच्चे को जेपीएन अस्पताल में ही टीका दिलवाया गया।
कर्मी ने कहा- पेंटावैलेंट के साथ दी जाती है वैक्सीन, इसी से किया इनकार
इस संबंध में पूछे जाने पर टीकाकरण केन्द्र में मौजूद कर्मी ने अस्पताल प्रबंधक संजय अंबष्ट को बताया कि पीसीवी का टीका पेंटावैलेंट के साथ दिया जाता है। कार्ड में इंट्री साथ ही होती है जिसके कारण टीका देने से इंकार किया गया। हालांकि कर्मी ने इस बात से इंकार किया कि उसने टीका नहीं होने की बात कही है। बाद में दोबारा मां और बच्चे का अस्पताल पहुंचने के बाद अस्पताल प्रबंधक ने बच्चे का टीकाकरण करवाया।
मामले में डीआईओ ने कहा- जिले के सरकारी अस्पतालों में सभी आवश्यक टीका उपलब्ध है
इस संबंध में डीआईओ डॉ. सुरेन्द्र चौधरी ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में सभी आवश्यक टीका उपलब्ध है और इसका सर्वोत्तम प्रबंध सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही है। टीका का रख-रखाव जितना सरकारी स्तर पर संभव है उतना हर किसी प्राईवेट क्लिनिक में संभव नहीं है। सरकारी अस्पताल में कई ऐसे टीके दिए जाते हैं जो प्राईवेट क्लिनिक में उपलब्ध नहीं है। इस मामले में किसकी लापरवाही हुई है, इसकी जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। डॉ. चौधरी ने भी माना कि यदि दैनिक भास्कर की ओर से इस मामले में संज्ञान नहीं लिया जाता तो बच्चे का टीकाकरण नहीं हो पाता।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना