• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Jamui
  • Mission 60's Claim Ineffective, If Ambulance Was Not Found, Patients Came To The Hospital By Jugaad Car

जमुई में पुराने ढर्रे पर लौटी अस्पताल की व्यवस्था:मिशन 60 का दावा बेअसर, एंबुलेंस नहीं मिला तो जुगाड़ गाड़ी से अस्पताल आए मरीज

जमुई2 महीने पहले

मिशन-60 के तहत अस्पताल की चिकित्सीय व्यवस्था दूरूस्त करने का दावा से इतर हकीकत अब दिखने लगी है। पुराने ढर्रे पर ही अस्पताल आने वाले मरीजों काे सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था से जुड़ा एक मामला सामने आया। सिकंदरा प्रखंड के पाठकचक गांव निवासी सुदामा मांझी मंगलवार की सुबह गिर गए । जिस कारण उसके पैर व कमर में गंभीर चोट आने के बाद परिजनों को उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल लाने में घंटों परेशानियों का सामना करना पड़ा।

पीड़ित के पड़ोसी मनोज यादव ने बताया कि एंबुलेस जैसी सुविधा शहर में रहने वालों को उपलब्ध कराया जाता है। ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को इस सुविधा का लाभ नहीं मिल पाता है। जिस कारण मरीज को वह मंगलवार काे जुगाड़ गाड़ी से लाया। जहां इलाज के बाद वह जुगाड़ी गाड़ी से ही वापस अपने घर ले जाने को विवश है।

अस्पताल को किया जा रहा है हाईटेक

बता दें कि मिशन-60 के तहत सदर अस्पताल की स्वास्थ्य सुविधा को हाईटेक करने को लेकर कार्य किए जा रहे है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग के वरीय पदाधिकारी अस्पताल पहुंचने वाले मरीज को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने का दाबा कर रहे है। लेकिन अस्पताल में आज भी पुराने ढर्रे पर मरीजों काे चिकित्सीय सुविधा मिल रही है।

जिले में उपलब्ध है 24 एंबुलेंस

बताया जाता है कि जिले में 18 लाख की आबादी पर नए व पुराने मिलाकर 24 एंबुलेस उपलब्ध है। जिसमें सदर अस्पताल में-06, झाझा- 3, लक्ष्मीपुर- 2, बरहट-2, खैरा- 2, गिद्धौर- 1, सोनो- 2, चकाई- 2, सिकंदरा- 2, अलीगंज 2 एंबलेंस उलब्ध कराया गया है। उसके बावजूद मरीजों को एंबुलेस की सुविधा नहीं मिली पा रही है।

खबरें और भी हैं...