जमुई में महिला न्याय सचिव का वीडियो वायरल:200 रुपए नहीं मिले तो वंशावली पर नहीं किए साइन, अधिकारी-नेताओं की खोली पोल

जमुई4 महीने पहले
वीडियो से ली गई न्याय सचिव की तस्वीर।

जमुई के लक्ष्मीपुर प्रखंड के गौरा पंचायत की न्याय सचिव अनुराधा कुमारी का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में न्याय सचिव अनुराधा कुमारी दस्तखत करने के बदले 200 रुपया मांग रही है। वायरल वीडियो में न्याय सचिव कह रही हैं - खर्चा लगेगा। तभी हम दस्तखत करेंगे, नही तो नही करेंगे। जाओ जाकर सरपंच से साइन करा लो।

वंशावली पेपर पर साइन के लिए आवेदक और महिला न्याय सचिव में काफी देर तक तू-तू मैं-मैं भी हुआ। आवेदक न्याय सचिव को बड़का पदाधिकारी होने की बात भी कह रहा। आवेदक कह रहा है कि सरपंच आपके पास भेजा, तब हम आए हैं। इस पर न्याय सचिव अनुराधा कुमारी कहती हैं, 'जाओ जाकर कह देना मैडम नहीं हैं।'

बता दें कि एक आवेदक न्याय सचिव के पास वंशावली बनाने के लिए गया था। वंशावाली पेपर में दस्तखत करने के लिए 200 रुपए मांग की जा रही है। आवेदक भी पैसे नहीं देने पर अड़ा है। न्याय सचिव वीडियो में कह रही है कि एक विधायक और सांसद का वेतन आईएएस की तुलना में कितना कम है। लेकिन विधायक और सांसद की कमाई का अंदाजा लगाना मुश्किल है। न्याय सचिव पूरे सरकारी तंत्र का पोल भी खोल रही है।

वीडियो वायरल होने पर पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है। आखिर में न्याय सचिव ने बिना रिश्वत पेपर में साइन नही किया। बिना साइन पेपर आवेदक को थमा दिया।

इस मामले में जमुई के DDC शशि शेखर चौधरी ने कहा कि एक महिला न्याय सचिव का वीडियो वायरल हुआ है। वायरल वीडियो की जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...