जलसंकट:जलापूर्ति प्लांट से ठेकेदार को पानी बेचा जा रहा, इधर पेयजल संकट

जमुई/सोनो16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जलापूर्ति प्लांट से टैंकर में भरा जा रहा पानी। - Dainik Bhaskar
जलापूर्ति प्लांट से टैंकर में भरा जा रहा पानी।
  • रोज जलापूर्ति योजना से बेचा जा रहा 16 हजार लीटर पानी

भीषण गर्मी के कारण 15 दिनों सोनो बाजार में पेयजल की गंभीर समस्या बनी हुई है। पानी के लिए हाहाकार मचा है और सोनो बाजार की एक बड़ी आबादी बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रही है। पीएचईडी की जलापूर्ति योजना का कुआं सूख गया है। इस गंभीर परिस्थिति में नल जल का शुद्ध पानी का छिड़काव सड़क पर किया जा रहा है ताकि धूल न उड़े। सोनो में पेयजल आपूर्ति के लिए नलजल योजना के तहत लगी पानी टंकी का उपयोग यहां बालू ठेकेदार अपने फायदे के लिए कर रहा है।प्रत्येक दिन जलापूर्ति प्लांट से पानी टैंकरों में भरकर बालू ढुलाई वाले सड़कों पर गिराया जाता है। मामला सोनो पंचायत के वार्ड संख्या आठ से जुड़ा है । इस वार्ड के तकरीबन दो सौ घरों को शुद्ध एवं स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत जलापूर्ति प्लांट लगाया गया। लेकिन इस जलापूर्ति योजना के लाम से वार्ड के ग्रामीण वंचित हैं । वार्ड के महज दो से तीन दर्जन घरों को ही अब तक इस योजना से जोड़ा गया है लेकिन उन्हें भी इसका लाभ मिल पाया है तो दूसरी ओर बालू ठेकेदार इस जलापूर्ति प्लांट का उपयोग अपने फायदे के लिए कर रहे हैं।

प्रत्येक दिन तीन से चार टैंकर पानी की होती है बिक्री
वार्ड के घरों को पेयजल उपलब्ध करने की बजाए टैंकर में पानी आपूर्ति करने के बाबत ग्रामीणों ने पंप संचालक से शिकायत करते हुए विरोध जताया। बावजूद इसके टैंकर को पानी आपूर्ति बंद नहीं की गई। लाभुकों का कहना है कि जहां हम लोग इस भीषण गर्मी में पेयजल के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं वहीं पेयजल आपूर्ति प्लांट से पानी बालू ठेकेदार को बेचा जा रहा है। प्रत्येक दिन 3-4 टेंकर (प्रति टैंकर 4 हज़ार लीटर) पानी की बिक्री की जाती है। इससे हमारे घरों में पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है। ग्रामीणों का कहना है कि बालू ठेकेदार पंप संचालक को प्रतिमाह 10 हजार की तय राशि देता है जिसके एवज में प्रत्येक दिन पन्द्रह से सोलह हज़ार लीटर पानी टैंकर के द्वारा बालू ठेकेदार को उपलब्ध करवाया जाता है।बालू ठेकेदार इस पानी को चुरहेद घाट से बालू ढुलाई वाले सड़कों पर गिराते हैं ताकि धूलकण नहीं उड़े।

नहीं हैं इस तरह का कोई आदेश, दोषियों पर होगी कार्रवाई

मामला मेरे संज्ञान में नहीं था। इस तरह का कोई आदेश नहीं है। मामले की जांच की जाएगी और सत्यता पाए जाने पर दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। -ममता प्रिया, बीडीओ, सोनो

खबरें और भी हैं...