अच्छी खबर:डिम्ड विवि की स्थापना से छात्रों का रुकेगा पलायन

जहानाबाद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डिम्ड यूनिवर्सिटी के आधारशिला रखते निवर्तमान जिलाधिकारी। - Dainik Bhaskar
डिम्ड यूनिवर्सिटी के आधारशिला रखते निवर्तमान जिलाधिकारी।
  • नोन्ही में पीपी एजुकेशनल ग्रुप की ओर यूनिवर्सिटी की निवर्तमान डीएम ने रखी आधारशीला

काको प्रखंड के नोनही गांव में स्थापित होने वाले प्रस्तावित डिम्ड यूनिवर्सिटी के तहत संचालित होने वाले शनिवार को पीपी एजुकेशनल ग्रुप के उच्च शिक्षण संस्थानों की आधारशिला रखी गई। निवर्तमान जिलाधिकारी हिमांशु कुमार राय, समूह के चेयरमैन डा.अभिराम सिंह व एमडी अक्षय आनंद ने संस्थान की संयुक्त रूप से आधारशिला रखी। ग्रुप के चेयरमैन डा. अभिराम सिंह ने कहा कि जिले से हाईयर एजुकेशन के लिए बाहर के राज्यों में पलायन करने वाले बच्चों को रोककर उन्हें उच्चस्तरीय शिक्षा प्रदान करना यूनिवर्सिटी की स्थापना का मुख्य लक्ष्य है।

उन्‍होंने बताया कि नए परिसर में प्रथम चरण में लॉ कॉलेज, डिग्री कॉलेज, इंटीग्रेटेड बीएड कॉलेज, डीएलईडी कॉलेज, नर्सिंग कॉलेज, पारामेडिकल कॉलेज सहित कई अन्य संस्थानों के भवन का निर्माण शुरू किया गया है। मौके पर रहे निवर्तमान डीएम हिमांशु कुमार राय ने इसे जिले के विकास में एक असाधारण कदम बताते हुए कहा कि इससे जिले की भविष्य की तस्वीर ही बदल सकती है। प्रबंध निदेशक अक्षय आनंद ने कहा कि शुरू से ही उनके शैक्षणिक ग्रुप की महत्ता इसलिए बरकरार है कि संस्था ने बच्चों को बेहतर शिक्षण देने में व्यापक सफलता हासिल की है।

इसलिए उनका संस्थान जिले में प्रारंभिक शिक्षा एवं शिक्षक प्रशिक्षण के क्षेत्र में बेहतर शैक्षणिक माहौल कायम करने में अपना एक विशिष्ट स्थान रखता है। उन्‍होंने कहा कि जिले में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अभी-भी बहुत काम करने की आवश्यकता है ताकि यहां के प्रतिभाशाली बच्चों को इसी समूह में प्रारंभिक से उच्च स्तर तक एक ही जगह अत्याधुनिक शिक्षा की बेहतरीन शिक्षा प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि जिले में शैक्षणिक क्षेत्र में लगातार बेहतर प्रदर्शन हो रहा है। आने वाले दिनो में जहानाबाद शिक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन सके, उनके शैक्षणिक समूह का यही लक्ष्य है। डा. अभिराम सिंह ने बताया की यह क्षेत्र एक एजुकेशनल हब के रूप में विकसित होगा। इसके लिए प्रबंधन ने सभी जरूरी तैयारियां पहले ही कर ली है।

संस्था के परिसर लिए अबतक 25 एकड़ भूमि की व्यवस्था की जा चुकी है जिसका भविष्य में विस्तार कर पचास एकड़ तक करने की तैयारी है। संस्थान के प्रबंध निदेशक अक्षय आनंद ने कहा कि इस संस्थान की नींव रखने के पीछे समूह के अध्यक्ष डॉ अभिराम सिंह की दूरदर्शिता है। दरअसल इस परिसर मे उच्चस्तरीय शिक्षण से जुड़े सभी जरूरी कोर्स का संचालन होगा, जिस के प्रति स्टूडेंट्स का ज्यादा लगाव है। रोजगारपरक शिक्षा प्राथमिकता में रहेगी। जरूरतमंद गरीब व प्रतिभाशाली बच्चों को पैसे की कमी की वजह से निराश नहीं होना होगा।

खबरें और भी हैं...