विरोध:बंधुगंज में व्यवसायी की पिटाई के विरोध में दुकानें बंद, पांच घंटे एनएच रहा जाम

जहानाबाद4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड क्षेत्र के बंधुगंज बाजार में अपराधियों व रंगदारों के बढ़ रहे आतंक के खिलाफ मंगलवार को स्थानीय व्यवसायियों ने बंधुगंज में अपनी दुकानों को बंद कर सड़क पर उतरकर जमकर विरोध किया। विरोध कर रहे व्यवसायियों ने आम लोगों के साथ मिलकर एनएच 110 को जाम कर टायर जलाकर अपने गुस्से की आग काे ठंडा करने की कोशिश की। सोमवार को राजीव शर्मा नामक एक खाद व्यवसायी की अपराधियों द्वारा गंभीर रूप से पिटाई व लूट के विरोध में व्यवसायियों ने बंधुगंज चौराहा को मंगलवार को जाम कर दिया।

सभी दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानों को स्वयं बंद कर अपना विरोध प्रदर्शन किया। दरअसल सोमवार को बंधुगंज बाजार में गंधार गांव निवासी खाद विक्रेता राजीव शर्मा को रंगदारी में मांगी गई राशि नहीं देने पर असामाजिक तत्वों द्वारा मारपीट कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया गया था। इसी को लेकर बाजार के व्यवसायियों ने अपनी मर्जी से दुकान को बंद कर बंधुगंज चौराहा एनएच 110 को पूरी तरह से जाम कर दिया। जाम लगने से दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतारें लग गई और प्रमुख सड़क की यातायात व्यवस्था लगभग पांच घंटे तक बाधित रही। कई छोटी गाड़ियां एवं दोपहिया वाहन रास्ता बदलकर अपने गंतव्य को जाते दिखे।

पहले भी जयशंकर गिरोह के आतंक से परेशान रहे हैं लोग
गत जुलाई महीने में जयशंकर गिरोह के द्वारा गंधार मठ के रविरंजन नामक एक युवक को गोली मारकर गंभीर रूप से जख्मी करने के बाद काफी बवाल मचा था। भाकपा माले ने तक बंधुगंज में प्रतिरोध सभा कर गिरोह के बदमाशों की गिरफ्तारी को लेकर काफी हंगामा किया था। आम लोगों की ओर से भी पुलिस को गुंडा व रंगदार गिरोहों की सक्रियता की शिकायतें दी जा रही है। लेकिन रंगदारों के गिरोह पर अब तक कोई बड़ी कार्रवाई नहीं होने से उनका मनोबल बढ़ता जा रहा है। सोमवार को खाद व्यवसायी के प्रतिष्ठान में लूटपाट व मारपीट कर उसे गंभीर रूप से जख्मी कर दिए जाने की घटना को लोग पुलिस की निष्क्रियता का परिणाम बता रहे हैं। लोगों में पुलिस के खिलाफ भी काफी आक्रोश है। भाकपा माले ने रंगदारों के खिलाफ कार्रवाई व उनकी गिरफ्तारी नहीं होने पर तीव्र आंदोलन की चेतावनी दे रखी है।

एसडीओ के काफी समझाने के बाद जाम हटाने को तैयार हुए व्यवसायी
व्यवसाई वरीय पदाधिकारी को बुलाने एवं उक्त अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े हुए थे। कई व्यवसायी ने एसडीएम से पुलिस पिकेट की मांग कर रहे थे। व्यवसायियों को कहना था कि रंगदारों के गिरोह से यहां के व्यवसायी आतंकित हो रहे हैं। पुलिस प्रशासन लंपट गिरोहों पर कार्रवाई नहीं कर रहा है जिससे उनकी हरकतें लगातार बढ़ रही है। मौके पर पहुंचे एसडीएम ने सड़क जाम कर रहे लोगों को समझा बुझाकर आखिरकार लोगों को मना लिया। उन्‍होंने पीड़ित व्यवसायियों की मांगों पर कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया। अपराधियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। एसडीएम के आश्वासन के बाद आखिरकार लगभग पांच घंटे के बाद जाम सड़क जाम को हटाया गया, जिससे उक्त व्यस्त सड़क पर आवागमन फिर से सुचारू ढंग से चालू हुआ। इस दौरान उक्त व्यस्त सड़क से यात्रा कर रहे यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। इधर दोपहर तक बाजार बंद रहने से आम लोगों को जरूरी सामान के लिए भी परेशान होना पड़ा।

खबरें और भी हैं...