• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Katihar
  • Cashier Rajat Was Murdered By The Financier And Colleague Of The Vehicle Showroom Along With His Brother: SP

उद्भे्दन:वाहन शोरूम के फाइनांसर व सहकर्मी ने भाई के साथ की थी कैशियर रजत की हत्या: एसपी

कटिहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रेस वार्ता के दौरान हत्या और लूट कांड का खुलासा करते एसपी। - Dainik Bhaskar
प्रेस वार्ता के दौरान हत्या और लूट कांड का खुलासा करते एसपी।
  • पुलिस ने हत्या व लूटकांड का खुलासा करते हुए चार अपराधी काे किया गिरफ्तार
  • 16 मई को बैंक में पैसा जमा करने जाने के दौरान हत्या कर 6 लाख लूट लिए थे

पुलिस ने चर्चित वाहन शोरूम के कैशियर रजत सिंह हत्या व लूटकांड का उद्भेदन कर दिया है। इस मामले में चार अपराधी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। समाहरणालय स्थित कार्यालय में एसपी जितेंद्र कुमार ने प्रेस वार्ता का आयोजन कर इस हत्याकांड का खुलासा किया। एसपी ने बताया कि वाहन शोरूम के फाइनांसर और मृतक के सहकर्मी ने ही अपने भाई के साथ मिलकर घटना की साजिश रची थी। गौरतलब हो कि 16 मई को बैंक में पैसा जमा करने जा रहे हीरो शोरूम के कैशियर रजत सिंह की बाइक सवार अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी, साथ ही 6 लाख रुपए भी लूट लिए थे। इस घटना से पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया था। इस घटना के बाद अपराधियों की गिरफ्तारी और लूट की रकम की बरामदगी को लेकर पुलिस के समक्ष चुनौती बन गया था। इस दौरान एसपी के निर्देश पर गठित टीम के द्वारा लगातार वैज्ञानिक अनुसंधान और घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन कर अपराधियों की पहचान की गई। जहां छापेमारी अभियान चलाकर चार अपराधी काे देसी पिस्टल, गोली और लूट के 50,300 रकम के साथ गिरफ्तार किया। घटना के उद्भेदन में सभी पुलिस कर्मी को एसपी के द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा।

16 मई को लूट और हत्या के घटना को दिया अंजाम
प्रेस वार्ता के दौरान एसपी जितेंद्र कुमार ने बताया कि 16 मई को मुफस्सिल थाना क्षेत्र अंतर्गत सिरसा स्थित आईशा हीरो वाहन शोरूम के कैशियर रजत सिंह अपने साथी के साथ शोरूम से कैश लेकर पास ही स्थित कोटक महिंद्रा बैंक में पैसे जमा करने जा रहे थे। इसी बीच मोटरसाइकिल पर सवार अज्ञात अपराधियाें ने रजत सिंह के साथ लूटपाट के क्रम में गोली मारकर हत्या कर दिया। हत्या, लूट कांड और आर्म्स एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज किया गया।

एसआईटी टीम का गठन
घटना की गंभीरता को देखते हुए एसपी के द्वारा उक्त कांड के सफल उद्भेदन के लिए एसडीपीओ ओमप्रकाश के नेतृत्व में एसआईटी टीम का गठन किया गया। जिसमें नगर थाना अध्यक्ष राघवेंद्र कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना अध्यक्ष रंजीत कुमार, सहायक थाना अध्यक्ष रविंद्र कुमार, डंडखोरा थाना अध्यक्ष शैलेश कुमार, डीआईयू शाखा प्रभारी अजय अमन को शामिल किया गया।

सीसीटीवी से मिला सुराग
एसआईटी टीम के द्वारा घटनास्थल के आसपास एवं पूर्णिया से लेकर नवगछिया, कोढ़ा से लेकर कटिहार, कटिहार से लेकर मनिहारी व कटिहार से लेकर कदवा तक का सीसीटीवी फुटेज का अवलोकन किया गया। इस दौरान लूट कांड की घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों की पहचान कर गिरफ्तारी के लिए छापेमारी अभियान चलाया गया। इस दौरान चार अपराधी को गिरफ्तार किया गया जिसके पास देसी पिस्टल, एक गोली, घटना में उपयोग किया गया मोबाइल फोन, लूटा हुआ 50 हजार 300 रुपए और एक स्कूटी बरामद किया गया। गिरफ्तार अपराधियों में गौतम कुमार साह, राहुल कुमार मलिक, साहेब दास और सागर कुमार शामिल है।

एक सिम से पूरे मामले का उद्भेदन
एसपी ने बताया कि घटना को अंजाम देने के लिए फूल प्रूफ योजना बनाया था। पुलिस के लिए यह उद्भेदन चुनौती थी। लेकिन एक सिम के द्वारा पूरे मामले का खुलासा किया गया। उन्होने कहा कि अपराधी के द्वारा इस तरह की योजना बनाई गई थी कि पुलिस के पकड़ से दूर रहे। लेकिन गठित एसआईटी की टीम ने तकनीकी अनुसंधान और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आराेपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होने कहा कि इस पूरे प्रकरण में गौतम साह घर ही घटना को अंजाम देने के लिए दो बार मिटिंग किया गया था।

सहकर्मी सेल्स् मैनेजर ने दिया था इनपुट
रजत के सह कर्मी साहेब दास सेल्स मैनेजर के पद पर कार्यरत था और दो दिन पूर्व ही वह कंपनी से छुट्टी पर था। उसने ही पूरा इनपुट अपने भाई को दिया कि कितना रकम कब जमा करने जाएगा। साहेब कम्प्यूटर का जानकार है और उसके द्वारा ही घटना में पुलिस को कैसे दिग्भ्रमित करे इसके लिए पूरा प्लान बनाया। साहेब का भाई राहुल शोरूम में फाइनांसर का काम करता था वह गौतम कुमार के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया।

खबरें और भी हैं...