पांच दिवसीय दीप पर्व की शुरुआत:सर्राफा से लेकर ऑटोमोबाइल्स की दुकानों में आई रौनक, सुबह 6.22 से शाम 7.50 तक शुभ मुहूर्त

कटिहार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहीद चौक पर पूजा-पाठ और दीये की दुकान सजकर तैयार। - Dainik Bhaskar
शहीद चौक पर पूजा-पाठ और दीये की दुकान सजकर तैयार।

पांच दिवसीय दीप पर्व की शुरुआत शनिवार को धनतेरस से हो रही है। इस मौके पर विधिपूर्वक पूजन से धनधान्य और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। शहर से गांव तक चारों ओर दीप पर्व का उल्लास है।

कोरोना काल के बाद धनतेरस पर व्यापारियों को अच्छे कारोबार की उम्मीद है तो आमजन को शुभ मुहूर्त में पूजन से सुख समृद्धि की। दीपोत्सव पर्व के पहले दिन धातु के खरीदने की परंपरा है।

माना जाता है कि धनतेरस के दिन धातुओं से बने सामानों, बर्तन, भौतिक उपयोग के साधनों जेवरात की खरीदारी से सुख-समृद्धि आती है। सुख समृद्धि के लिए होने वाली खरीदारी की परंपरा का निर्वहन करने के लिए सभी घरों में तैयारी हो गई है। वहीं धनतेरस पर होने वाली जमकर खरीदारी के चलते बाजार भी तैयार हो गए हैं।

बाजार भी सज गए हैं। शुक्रवार को ही बाजार का माहौल बदला हुआ और शानदार दिखा। शोरूम से लेकर दुकानों ही नहीं सड़कों पर भी दुकानें सज गई हैं। चारों तरफ सजी दुकानें आकर्षण का केंद्र बनी हैं। व्यापारियों को पिछले वर्ष की तुलना में इस बार अच्छे बाजार की संभावना है।

सोने और चांदी के सिक्कों की डिमांड सबसे अधिक

धनतेरस पर सबसे ज्यादा खरीदारी आभूषणों सोने चांदी के सिक्कों और वाहनों की होने की उम्मीद है। इसके दृष्टिगत बाजार पूरी तरह से सज गए हैं। इन व्यवसाय के व्यापारियों ने कई तरह की ऑफर योजना का शुभारंभ किया है। दुकानों को आकर्षक ढंग से सजा दिया गया है। सभी ऑटोमोबाइल्स की दुकानें बाहर भी सज गई हैं।

कई बाइक कंपनियों ने भी विशेष ऑफर योजना का शुभारंभ किया है। एडवांस बुकिंग की जा रही है। धनतेरस पर्व के दृष्टिगत सबसे अधिक बर्तनों की खरीद होती है। घरों में दैनिक उपयोग में आने वाले बर्तन और उपकरणों की खरीद की परंपरा सालों से चली आ रही है। इस बार भी परंपरा का निर्वहन होने की प्रबल संभावना है। संभावना के चलते बर्तन बाजार काफी गुलजार है। सभी बर्तन के व्यवसायियों की ओर से दुकानों के साथ ही दुकानों के बाहर सड़कों पर दुकानें सजा दी है।

महंगाई के कारण धनतेरस के बाजार पर पड़ सकता है असर

चेंबर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष बिमल सिंह बेगानी ने बताया कि धनतेरस को लेकर बाजार सज चुका है। बाजार में सभी चीज उपलब्ध भी हैं, लेकिन महंगाई के कारण धनतेरस के बाजार में असर पड़ सकता है। उन्होंने बताया कि बर्तन और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की बिक्री मिलाजुला कर ठीक-ठाक हो सकती है। लेकिन सोना चांदी, कपड़ा आदि के बिक्री में गिरावट होगी। उन्होंने बताया कि शनिवार को बाजार में खरीद बिक्री के बाद ही बाजार के सही आकलन का पता चल सकेगा।

ऑटोमोबाइल शोरूम में गाड़ियों की हो रही है एडवांस बुकिंग

जिले भर में एक दर्जन से अधिक ऑटोमोबाइल के शोरूम है। कटिहार के हीरो शोरूम में शुक्रवार देर शाम तक 110 गाड़ियों की बुकिंग हुई जबकि 40 गाड़ियों को नगद खरीदा गया। वही टीवीएस शोरूम में भी लगभग 50 गाड़ियों की बुकिंग हुई है। हालांकि अन्य शोरूम की हालत ठीक नहीं है। यहां कम संख्या में गाड़ियों की बुकिंग की गई है।

यम के नाम से चौमुखी दीपक जलाने से मृत्योपरांत यातना से मिलती मुक्ति

रविवार को यमराज का पूजा किया जाएगा। पूरे वर्ष में एक मात्र यही दिन है, जब मृत्यु के देवता यमराज की पूजा की जाती है। यह पूजा दिन में नहीं शाम को की जाती है। इसके लिए चौमुखी दीपक में यम निमित जलाते हैं। इससे मृत्युपरांत यम-त्रास (यातना) से मुक्ति मिलती है। ऐसी भी पौराणिक मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण ने सत्यभामा की मदद से नरकासुर का वध कर सोलह हजार एक सौ कन्याओं को बंदी से मुक्त कराया था। इस दिन सुबह स्नान कर शृंगार का विधान है।

भाई की लंबी उम्र को बहन लगाएगी टीका

कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया को भाई दूज के पर्व को मनाया जाएगा। इस दिन बहनें अपने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी दीर्घ आयु की कामना करेंगी। शास्त्रों के अनुसार भाई दूज के दिन यमराज अपनी बहन यमुना के घर तिलक कराने गाए थे, क्योंकि वह अपनी व्यस्तताओं के कारण उनसे मुलाकात नहीं कर पाते थे। इस दिन ही वह अपनी बहन के घर गए थे। पूजन के समय बहन कहती है- ‘जमुना नौते जम के, हम नौतय छी भाय के। जौं-जौं गंगा-जमुना के पैन बढ़य, तौं-तौं हमर भाय के औरदा बढ़य।

शुभ मुहूर्त सुबह से 6:22 रात 7:50 मिनट दोपहर 01:50 से शाम 03:20 शाम 04:20 से रात 7:00 रात 1:00 से रात 2:22

यम के नाम से चौमुखी दीपक जलाने से मृत्योपरांत यातना से मिलती मुक्ति

खबरें और भी हैं...