होमगार्ड बहाली:11 साल बाद शुरू हुई होमगार्ड की भर्ती प्रक्रिया 8507 की जगह महज 450 अभ्यर्थी हुए शामिल

कटिहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौड़ में शामिल अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
दौड़ में शामिल अभ्यर्थी।
  • 35 वर्ष की उम्र में किया था आवेदन, 46 वर्ष में हो रही प्रक्रिया में शरीर नहीं दे रहा साथ, हांफ रहे अभ्यर्थी
  • अधिक उम्र होने की वजह से कई अभ्यर्थी खा गए पछाड़, कोई गिरा तो कोई जंप नहीं कर पाया

आवेदन लेने के 11 वर्ष बाद सरकार ने भले ही होमगार्ड की बहाली प्रक्रिया शुरू कर दी, लेकिन इस बहाली में जो भी आवेदक पहले दिन आए वे शारीरिक दक्षता परीक्षा में हांफते नजर आए। कोई गोला फेंकने में गिरा तो कोई लांग जंप में आधे दूर तक ही पहुंचा। जबकि दौड़ में आधे से अधिक लोग छंट गए। जिले में 11 वर्ष पूर्व वर्ष 2011 में गृह रक्षा वाहिनी भर्ती के लिए आवेदन लिए गए थे। उसी आवेदन के आलोक में मंगलवार से राजेन्द्र स्टेडियम के मैदान में शारीरिक दक्षता परीक्षा शुरू हुई। पहले दिन तीन प्रखंड डंडखोरा, मनिहारी और अमदाबाद के अभ्यर्थियों ने परीक्षा में भाग लिया। पहले दिन लगभग 450 परीक्षार्थी शारीरिक दक्षता परीक्षा देने के लिए पहुंचे थे। प्रक्रिया देर शाम तक जारी रही। बारिश होने के कारण कुछ देर के लिए शारीरिक दक्षता परीक्षा में व्यवधान पहुंचा लेकिन उसके बाद पुनः शुरू हो गई। गौरतलब है कि जिले में 225 पदों के लिए 8507 अभ्यर्थियों ने 11 वर्ष पूर्व आवेदन दिया था। जिनमें 354 महिला एवं 8153 पुरूष आवेदक शामिल है। जो 11 वर्ष पूर्व आवेदन दिया था उन्हीं आवेदकों को इस बहाली में शामिल किया गया है। पुरूष अभ्यर्थियों के लिए 6 मिनट में एक मील एवं महिला अभ्यर्थियों के लिए 5 मिनट में 800 मीटर की दौड़ तय की गई है। दौड़ में पास होने के बाद अभ्यर्थियों को हाई जम्प, लौंग जम्प, गोला फेंक आदि इवेंट में पास करना है।

25 से 30 प्रतिशत कम आवेदक आने की आशांका | अभ्यर्थी ने बताया कि 11 वर्ष पूर्व 8 हजार से अधिक युवकों ने आवेदन किया था। लेकिन वर्तमान में 30 प्रतिशत युवक अपने जीवन यापन का दूसरा विकल्प चुन लिया है। वैसे ही 25 से 30 प्रतिशत कम ही युवक बहाली में भाग लेने पहुंच रहे हैं। जो आ रहें हैं वह केवल अपने नाम का खानापूरी करने के लिए पहुंचे हैं। मौका मिलने की खुशी है पर शरीर साथ नहीं दे रही है। अभ्यर्थियों ने कहा कि आवेदन करने के समय 35 वर्ष उम्र थी, लेकिन अब 46 वर्ष के हो गया हैं। खुशी है कि परीक्षा में शामिल हो रहे हैं लेकिन अब उस जोश के साथ शरीर कितना साथ देगी वह देखेंगे। सेवा निवृत एक पुलिस पदाधिकारी ने बताया कि नियुक्ति प्रक्रिया शुरू होना अच्छी बात है लेकिन यह जरूरी नहीं कि उस समय आवेदन करने वाले युवा 11 साल बाद उसी तरह ऊर्जावान हों। इस बात की पूरी संभावना है कि आवेदन देने वालों में काफी लोग ऐसे हों जिन्होंने जीवन-यापन का कोई दूसरा विकल्प तैयार कर लिया हो और अब इस प्रक्रिया में भाग लेने नहीं आएं।

दंडाधिकारी की थी प्रतिनियुक्ति
शारीरिक दक्षता परीक्षा को लेकर रजिस्ट्रेशन काउंटर, हाइट एवं चेस्ट मेजरमेंट काउंटर, रनिंग काउंटर, हाई जंप काउंटर, लॉन्ग जंप काउंटर एवं शॉटपुट काउंटर बनाया गया था। इन काउंटरों में दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई थी। इसके अलावा वरीय पदाधिकारी को भी लगाया गया था। 24 मई को डंडखाेरा, अमदाबाद और मनसाही, 25 मई को आजमनगर, हसनगंज और कदवा, 26 मई को बरारी और फलका, 27 मई को प्राणपुर, समेली, बलरामपुर और कटिहार ग्रामीण, 28 मई को मनिहारी और बारसोई, 29 मई को कोढ़ा और कुरसेला, 30 मई को कटिहार शहरी एवं मनिहारी शहरी तथा सभी प्रखंड के छूटे हुए अभ्यर्थी को बहाली प्रक्रिया में भाग लेना है।

पहले दिन 450 आवेदक आये
समादेष्टा होमगार्ड पवन कुमार ने कहा कि पहले दिन लगभग तीन प्रखंडो से 150 अभ्यर्थी बहाली प्रक्रिया में भाग लेने आए थे। पहले दिन बारिश होने के कारण बहाली प्रक्रिया में थोड़ी परेशानी हुई जिस कारण देर रात तक बहाली प्रक्रिया चली।

खबरें और भी हैं...