कवायद:2022-23 में 80 पंचायतों में बनेगा कचरा अवशिष्ट प्लांट, जिले में 12278 शौचालय निर्माण का लक्ष्य

किशनगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चयनित पंचायतों के प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण देते मास्टर ट्रेनर। - Dainik Bhaskar
चयनित पंचायतों के प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण देते मास्टर ट्रेनर।
  • पंचायतों को स्वच्छ रखने का मास्टर प्लान तैयार, 125 पंचायतों में कचरा अवशिष्ट प्रबंधन प्लांट का होगा निर्माण
  • जहां जमीन चिह्नित वहां इसी वित्तीय वर्ष में कचरा निष्पादन प्लांट का निर्माण का लक्ष्य
  • प्रथम फेज में तीस पंचायतों में जमीन चिह्नित, कर्मियों को दिया जा रहा प्रशक्षिण

जिले के पंचायतों को स्वच्छ रखने का मास्टर प्लान तैयार है। चरणबद्ध तरीके से जिले के 125 पंचायतों में कचरा अवशिष्ट प्रबंधन प्लांट का निर्माण किया जाएगा। प्रथम चरण में तीस पंचायतों में इसकी कवायद शुरू हो चुकी है। इस वित्तीय वर्ष में 80 पंचायतों में स्वच्छता अभियान कार्य पूर्ण करने का लक्ष्य है। प्रथम फेज में चयनित 30 पंचायतों में प्लांट के लिए जमीन भी उपलब्ध हो चुका है। यहां इसी वित्तीय वर्ष में प्लांट का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य है। जिस पंचायत की आबादी अधिक है, उस पंचायत का चयन प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। प्रथम फेज में चयनित 30 पंचायतों में कचड़ा उठाव के लिए कर्मियों का चयन भी किया जा चुका है। चयनित कर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। वार्ड वार प्रत्येक घरों से सूखा व गीला कचरा संग्रह कर प्लांट में लाया जाएगा। प्लांट में सुखा कचरा से टीन, शीशा, कागज जैसे खराब सामान को अलग कट बाजार दर पर उसे बेचकर प्राप्त राशि ग्राम पंचायत को दिया जाएगा। गीला कचड़ा को रिसाइकिल कर उससे जैविक खाद तैयार किया जाएगा। इसके साथ साथ प्लांट के पास जल संचय व शॉक पीट का निर्माण होगा। सरकार का उद्देश्य गांव को स्वच्छ बनाया जाना है। इसके साथ साथ जिला में इस वित्तीय वर्ष में 12 हजार 278 शौचालय का निर्माण का भी लक्ष्य है। ताकि खुले में शौच पूरी तरह बंद हो सके।

जिले को खुले में शौच से मुक्त करने की योजना
जिला समन्वयक स्वच्छता संजीव कुमार मिश्रा ने कहा कि जिले में 12 हजार 278 शौचालय निर्माण का भी लक्ष्य मिला है। इसी वित्तीय वर्ष में शौचालय निर्माण का टारगेट है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग जो हाल में घर बनाए हैं या फिर पिछले योजना में छूट गए हैं। उन्हीं को इस योजना से जोड़ा जाएगा। वार्ड क्रियान्वयन समिति पंचायतवार शौचालय से वंचित लोगों की सूची संबन्धित प्रखण्ड कार्यालय को उपलब्ध कराएगी। पुनः सूची का मिलान किया जाएगा।अगर नई सूची में ऐसे लोगों का नाम होगा। जिन्हें पूर्व में इस योजना का लाभ मिल चुका है। उनके नाम को हटा दिया जाएगा। जिला समन्वयक श्री मिश्रा ने कहा कि जिले को खुले में शौच से मुक्त करने का योजना है।

प्रथम फेज में 30 पंचायतों के 448920 लोगों को पहले मिलेगा योजना का लाभ
प्रथम फेज में जिले के तीस पंचायत का चयन किया गया है। इस योजना से 4 लाख 48 हजार 920 लोगों को लाभ मिलेगा। किशनगंज प्रखण्ड के गाछपाड़ा, बेलवा, चकला, टेउसा व दौला पंचायत का चयन किया गया है। कोचाधामन प्रखण्ड के बगलबाड़ी, डेरामाड़ी, पाटकोइ कला, कुट्टी, बलिया, दिघलबैंक प्रखण्ड के धनटोला, सिघिमाड़ी, जागीर पदमपुर, लक्ष्मीपुर, ताराबाड़ी पदमपुर, पोठिया प्रखण्ड के फ़ाला, कस्बा कलियागंज, बुढ़नई, सारोगोरा, बहादुरगंज प्रखण्ड के निसन्दरा, दुर्गापुर बनगामा, लौचा, डोहर, ठाकुरगंज प्रखण्ड के सखुआडाली, भातगांव, पटेशरी, दल्लेगांव, टेढ़ागाछ प्रखण्ड के मटियारी, डाक पोखर, धवेलि पंचायत का चयन किया गया है।
जैम पोर्टल से होगी सामानों की खरीदारी
पंचायत के सभी वार्डों के प्रत्येक घर से कचरे का उठाव किया जाएगा। इसके लिए डस्टबिन, ठेला गाड़ी, ट्राइसाइकिल की खरीददारी की जाएगी। डीएम ने सामानों की खरीददारी में पारदर्शिता लाने के ख्याल से इसे जैम पोर्टल के माध्यम से खरीदने का निर्देश दिया है। जैम पोर्टल से खरीददारी करने के लिए चयनित पंचायतों के मुखिया एवं वार्ड सदस्यों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। सामानों की खरीददारी होते ही प्रोसेसिंग प्लांट चालू कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...