कार्यक्रम:आठ दिनों तक निराहार रहकर तपस्या करने वाले बुजुर्ग धर्मनिष्ठ का किया गया अभिनंदन

किशनगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तेरापंथ भवन में तपस्या करने वाले बुजुर्ग का अभिनंदन करते समाज के लोग व अन्य। - Dainik Bhaskar
तेरापंथ भवन में तपस्या करने वाले बुजुर्ग का अभिनंदन करते समाज के लोग व अन्य।
  • साध्वी संगीतश्री व सहयोगी तीन साध्वियों के सानिध्य में कार्यक्रम आयोजित

शहर के पुरबपाली स्थित तेरापंथ भवन में 8 दिनों तक निराहार रहकर तपस्या करने वाले बुजुर्ग धर्मनिष्ठ अमरचंद सेठिया के तप के अभिनंदन का कार्यक्रम आयोजित हुआ। आचार्य श्री महाश्रमणजी की शिष्या साध्वी संगीत श्री व सहयोगी तीन साध्वियों के सानिध्य में कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का आरम्भ महिलामण्डल द्वारा मंगलगीत से हुआ। इसके बाद साध्वी शांति प्रभा, सभाध्यक्ष विमल दफ्तरी, महासभा संरक्षक डॉ राजकरण दफ्तरी, नेपाल बिहार उपाध्यक्ष चैनरुप दुगड़, महिलामण्डल अध्यक्ष संतोष दुगड़, तेयुप अध्यक्ष अमित दफ्तरी,अणुव्रत अध्यक्ष संजय बैद,मनोज सेठिया, ईशान, दर्शन व सेठिया परिवार ने वक्तव्य व गीतिका के माध्यम से तपस्वी के तप की अनुमोदना की। साध्वी संगीत श्री ने कहा कि तप करने के लिए उम्र नहीं अंतरात्मा की भावना के जगने की जरूरत होती है। तप रूपी ज्योति से आत्मा को प्रकाशित किया जाता है। अमरचंद सेठिया ने इस लक्ष्य को प्राप्त करते हुए अपनी आत्मा को प्रकाशित किया है। मंच संचालन साध्वी श्री ने किया। कार्यक्रम में तेरापंथ सभा, महिलामण्डल, तेयुप, अणुव्रत समिति द्वारा तपस्वी अमरचंद सेठिया को अभिनंदन पत्र व साहित्य समर्पित कर उनके तप का अभिनंदन किया गया।

खबरें और भी हैं...