स्वास्थ्य विभाग अलर्ट:डेंगू के दो मरीज मिले, सदर अस्पताल में चल रहा इलाज, स्थिति गंभीर हुई तो रेफर

किशनगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल का डेंगू वार्ड। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल का डेंगू वार्ड।

फॉगिंग के निर्देश, लेकिन शहर के कई वार्डों में फॉगिंग नहीं होने पर उठ रहे हैं सवाल

वही हुआ जिसका डर था। जिले में डेंगू के दो मरीज मिले हैं। तीन दिन पूर्व मिले छह संदिग्ध मरीजों के ब्लड सैंपल की जांच रिपोर्ट आने के बाद इसकी पुष्टि हुई है। बुधवार को इन मरीजों के ब्लड का सैंपल जांच के लिए भागलपुर भेजा गया था।

शुक्रवार को इनकी रिपोर्ट आई। जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. मंजर आलम ने बताया कि दोनों मरीज शहर के हैं। इनमें एक तेघरिया और दूसरा रोलबाग का है। शेष चार संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है।

मरीजों को सदर अस्पताल के ही डेंगू वार्ड में एडमिट कर उनका इलाज शुरू कर दिया गया है। जिले में डेंगू के गंभीर मरीज के इलाज की व्यवस्था नहीं है। अगर मरीज की स्थिति गंभीर हुई या उसे प्लेटलेट्स चढ़ाने की नौबत आई तो उसे बेहतर इलाज के लिए भागलपुर या पटना रेफर किया जाएगा।

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. मंजर आलम ने माना कि जिले में प्लेटलेट्स चढ़ाने की व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि फिलहाल दोनों मरीजों की स्थिति अच्छी है एवं उनमें सुधार हो रहा है। उन्हें बुखार और एंटीबायोटिक दवाइयां दी जा रही है।

बताया कि यह मुख्य: मच्छर के काटने से होता है। मच्छरों से होने वाली बीमारियों में मलेरिया, फाइलेरिया, डेंगू, जापानी इन्सेफेलाइटिस, जीका वायरस, चिकनगुनिया, हेपेटाइटिस ए आदि प्रमुख हैं। इसके अलावा बहुत सारी बीमारियां हैं जो मच्छरों के काटने से होती हैं।

बरती जा रही अतिरिक्त सतर्कता

स्वास्थ्य विभाग सहित तमाम सरकारी गैर सरकारी एजेंसियां व विभाग डेंगू को लेकर इन दिनों अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बुधवार को संपन्न वीसी के बाद सरकारी व गैरसरकारी स्कूलों में बच्चों के ड्रेस कोड फिलहाल 15 दिनों तक रद्द करने का निर्देश जारी किया गया था।

इसका मकसद बच्चों को वैसे कपड़े पहनकर स्कूल आने के लिए प्रेरित करना था ताकि पूरा शरीर ढका रहे। इसी के बाद जिला शिक्षा पदाधिकारी सुभाष गुप्ता ने आगामी 15 दिनों तक विद्यालय में बच्चों के ड्रेस कोड शिथिल करने का आदेश जारी किया था।

आम लोगों सहित नगर परिषद को साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने का निर्देश जिला प्रशासन ने दिया है। लगातार फॉगिंग का निर्देश है। लेकिन शहर के कई वार्डों में फॉगिंग नहीं होने पर सवाल उठ रहे हैं।

सदर अस्पताल में डेंगू मरीजों के लिए 10 बेड आरक्षित

सिविल सर्जन डॉ कौशल किशोर ने बताया वर्तमान में जिले के सदर अस्पताल में डेंगू मरीजों के लिए 10 बेड आरक्षित किया गया है। वहीं एम जी एम मेडिकल कॉलेज में 15 बेड आरक्षित किया गया है। जिले में वर्तमान में डेंगू किट उपलब्ध है। जिले के सभी पीएचसी में किट उपलब्ध करायी जा रही है।

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ मंजर आलम ने बताया कि दिन हो या रात सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें। इसके साथ.साथ मच्छर भगाने वाली क्रीम या दवा का प्रयोग करें। पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें। घर साफ- सुथरा रखें। टूटे-फूटे बर्तनों, कूलर, एसी, फ्रीज में पानी जमा नहीं होने दें।

खबरें और भी हैं...