प्रशासन की लापरवाही से जिंदगी-मौत से जूझ रहा कैदी:मीडिया के दबाव में आननफानन में भेजा गया पीएमसीएच, तीन दिन पहले हुआ था रैफर

मधेपुराएक महीने पहले
अस्पताल में इलाजरत कैदी।

मधेपुरा जिला के उदाकिशुनगंज अनुमंडल अंतर्गत बिहारीगंज थाना क्षेत्र के कमलाकुंद लक्ष्मीपुर लालचंद का एक कैदी जिन्दगी और मौत से जूझ रहा है। बीते 9 माह पहले हत्या के एक मामले में गिरफ़्तारी के बाद वह उदाकिशुनगंज अनुमंडल जेल में बंद था जहाँ से उसे करीब एक डेढ़ माह पहले इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन वहां भी जब हालात नही सुधरी तो उसे जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल में बीते 3 मई को भर्ती करा दिया गया। यहाँ भी इसकी स्थिति गंभीर बनी हुई थी। कैदी का नाम बिपिन मंडल बताया जा रहा है जो 16 अगस्त 2021को गावं के ही सुधीर मंडल के हत्या मामले में जेल में बंद था।

कैदी के बहनोई हीरालाल मंडल ने बताया कि पुलिस बिना जाँच के ही बिपिन को गिरफ्तार कर लिया। बिपिन पहले से बीमार था हमलोग कई बार उसके इलाज की बिनती कर चुके थे। जेलर को भी कहा गया था अपने खर्च पर उनका बेहतर इलाज की अनुमति प्रदान की जाय। लेकिन कोई नहीं सुना। डेढ़ माह पहले जब उनसे मिलाने के लिए परिजन जेल पर गए तो पता चला वे बीमार हैं और उनका इलाज मधेपुरा सदर अस्पताल में चल रहा है। परिजन जब अस्पताल पहुंचे तो उनकी स्थिति काफी गंभीर थी। बिपिन को लगातार खून की उल्टी हो रही थी। काफी मिन्नत और दौरभाग के बाद उसे मेडिकल कालेज भेजा गया। 3 मई को वे मेडिकल कालेज आए लेकिन हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। फिर परेशानी शुरू हुई तो 21 मई को मेडिकल कालेज से भी रेफर कर दिया गया। पर आज तक उन्हें बेहतर इलाज के लिए बाहर नहीं भेजा गया है।

इस सम्बन्ध में जब उदाकिशुनगंज अनुमंडल कारा के जेलर विकास कैरव से बात की गयी तो उन्होंने बताया कि मरीज को बाहर भेजने के लिए मेडिकल बोर्ड का आदेश जरुरी होता है। मेडिकल कालेज का कहना था वे लोग कभी वोर्ड का गठन नहीं किये हैं।

वे सदर अस्पताल को मेडिकल बोर्ड गठित करने को बोल रहे थे। लेकिन सदर अस्पताल के उपाधीक्षक का कहना था दुसरे अस्पताल के मरीज के लिए वे क्यों बोर्ड का गठन करे। इसी में समय लग गया। मेडिकल कालेज और सदर अस्पताल के बीच झूलते मामले के बीच बिपिन की हालत बिगरते चली गयी। संयोग से आज जब भष्कर की टीम कालेज पहुंची और हमने जानकारी जुटाना शुरू किया तो पता चला देर शाम बिपिन को मेडिकल कालेज से पीएमसीएच भेज दिया गया हैं।

खबरें और भी हैं...