भास्कर एक्सक्लूसिव:इस नवजात की जननी कौन?

मनीष वत्स | मधेपुरा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नवजात को गोद में लिए हुए नि:संतान महिला। - Dainik Bhaskar
नवजात को गोद में लिए हुए नि:संतान महिला।
  • कुश्थन पंचायत में वर्षों से नि:संतान दंपति की गोद में नवजात को देख कौतूहल में ग्रामीण
  • बच्चा बेचने की बात सामने आने पर पल्ला झाड़ रही आशा और उसका पति
  • नि:संतान दंपती का दावा: आशा कार्यकर्ता ने 30 हजार रुपये में खरीदा बच्चा, 20 हजार रुपये और मांग रही

15 साल से नि:संतान रही एक गरीब दंपती अपनी गोद में चार दिन का एक नवजात शिशु को लेकर फूले नहीं समा रहे हैं। आसपास की महिलाओं से शिशु को पालने का तौर-तरीका जान रही है। गांव में भी यह कौतूहल का विषय बना हुआ है। लेकिन अपने ही गांव की आशा कार्यकर्ता से कथित रूप से 30 हजार रुपए में नवजात को खरीदने वाले इस दंपति की परेशानी समाप्त नहीं हुई है। दंपती की माने तो आशा कार्यकर्ता और उसके पति अब उससे और 20 हजार रुपए देने के लिए तगादा कर रहे हैं। हालांकि मामला उजागर होने के बाद अब आशा कार्यकर्ता और उसके पति इससे न सिर्फ इंकार करते हैं, बल्कि महिला को एक डॉक्टर के क्लिीनिक पर सिखाकर एक वीडियो बनवा लिया, जिसमें महिला को कहलवाया गया कि उसे आशा से नहीं, कहीं और से बच्ची प्राप्त हुई। मामला बिहारीगंज प्रखंड के कुश्थन पंचायत के वार्ड-1 का है। नि:संतान दंपती मजदूरी कर अपना घर चलाते हैं। बड़ा सवाल यह भी है कि आखिर उस नवजात को किस मां ने जन्म देकर छोड़ दिया।

निर्मला ने मेरी पत्नी का बनवा लिया है वीडियो: रूपेश मंडल
पूनम देवी के पति रुपेश मंडल भी कहते हैं कि लखन राम की पत्नी (आशा कार्यकर्ता निर्मला देवी) ने उसे 30 हजार में उसे बच्ची दी है। वे लोग अब और 20 हजार रुपए की मांग कर रहे हैं। रुपेश की माने तो निर्मला का बेटा उसकी पत्नी को शुक्रवार को डॉ. विनोद के क्लीनिक पर ले गया था। जहां उनलोगों ने अपने बचाव में उसकी पत्नी का वीडियो बनाकर अब वायरल कर रहा है, जो झूठा है।

बेटी ही लेना चाहती थी, ताकि उसे अच्छे से पालूं : पूनम देवी
पूनम देवी कहती हैं कि वह आशा कार्यकर्ता निर्मला देवी के घर भी आया-जाता करती थी। गांव में पहले से चर्चा है कि निर्मला देवी कई लोगों को बच्चा दे चुकी है। इस कारण से जब उसे बच्चा नहीं हो रहा था, तो उसने निर्मला को भी एक बच्चा दिला देने को कहा था। उसकी चाहत थी बेटी ही मिले। क्योंकि पूनम की सोच है कि बेटा लेने पर कई तरह का विवाद हो सकता था। वह बेटी को पाल-पोसकर अच्छी परवरिश कर उसकी धूमधाम से शादी करना चाहती है। मंगलवार को उसे निर्मला देवी ने एक बच्ची दी। इसके बदले में पूनम और उसके पति रुपेश मंडल ने निर्मला को 30 हजार रुपए दिए। जिसमें से 10 हजार उसके पास थे और शेष 20 हजार रुपए उसे गाय बेचकर रखे थे। निर्मला अब उससे और 20 हजार रुपए का तकादा कर रही है। शुक्रवार को उसका बेटा उसके घर पा आया और उसे डॉ. विनोद के क्लीनिक पर ले गया। जहां उसने कहा कि इस मामले में उसका नाम नहीं आना चाहिए। किसी के पूछने पर वह यह कहे कि उसे कहीं और से बच्चा मिला। पूनम ने कहा कि उनलोगों ने उसका वीडियो भी बना लिया। पूनम की माने तो वह कानून आदि नहीं जानती है कि बच्चा कैसे लिया जाता है।

मैंने नहीं दिया है पूनम को बच्चा: निर्मला देवी

आशा निर्मला देवी का कहना है कि उसने पूनम को बच्चा नहीं बेचा है। पूनम के घर में जब बच्चा आया तो आशा कार्यकर्ता होने के कारण इंट्री करने गए थे। उसने बताया कि वह डॉ. विनोद के क्लीनिक पर दाय का काम करती है।

मामला संज्ञान में आया है

कुश्थन पंचायत में बच्चा बेचे जाने या कहीं पर मिलने का मामला संज्ञान में आया है। मामले की जांच की जा रही है। जांचोरांत अग्रेतर कार्रवाई की जाएगी। -अमित कुमार, थानाध्यक्ष, बिहारीगंज

खबरें और भी हैं...