ढाई साल पहले भटका मासूम मिला परिवार से:चाइल्ड लाइन की टीम ने आधार कार्ड के जरिए लगाया दिव्यांग के घर का पता

मधुबनी2 महीने पहले

मधुबनी में बाल कल्याण समिति को मिली बड़ी कामयाबी,ढाई वर्षों से भटके बालक के परिजनों को खोजकर बालक को परिवार वालों को सौंपा गया। वही 12 वर्षीय बालक पंकज कुमार मई 2020 को घर से भटक गया था, जिसके बाद परिजनों ने आसपास के इलाकों में काफी खोजबीन किया लेकिन बालक नहीं मिला। बालक अंधराठाढ़ी इलाके में भटक रहा था। सूचना मिलने पर चाइल्ड लाइन टीम द्वारा रेस्क्यू किया गया। बालक मूक बधिर था वह पता बताने में असमर्थ था।

चाइल्ड लाइन टीम ने बालक को बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया। बाल कल्याण समिति में जब बालक की काउंसलिंग कराई गई तब संज्ञान में आया की बालक मानसिक रूप से विशेष है और बोलने में अक्षम है। बाल कल्याण समिति ने बालक को बाल गृह में रखने का आदेश दिया। बालक ढाई वर्षों से मधुबनी बाल गृह में रह रहा था। इस दौरान बाल कल्याण समिति बालक के परिजनों को खोजने के लिए लगातार प्रयास में जुटा रहा

बालक का अखबार में विज्ञापन दिया गया लेकिन पता नहीं चल सका। विगत छह माह से पुनः बाल कल्याण समिति मधुबनी के अध्यक्ष बिन्दु भूषण ठाकुर द्वारा बालक का घर खोजने के लिए प्रयास शुरू किया गया । इस क्रम में उन्होंने बाल गृह कर्मियों को बालक के घर को खोजने के लिए आवश्यक प्रयास करने हेतु निर्देश दिया। अध्यक्ष के निर्देश के आलोक में बालक का आधार कार्ड बनवाए जाने हेतु आवेदन किया गया जो रिजेक्ट हो गया और पता चला बालक का पूर्व में आधार कार्ड बन चुका है। फिर यूनिक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया को भेजा गया जहां से बालक का डुप्लीकेट आधार कार्ड जनरेट हो गया एवं बालक का पता मिल गया। बालक का नाम पंकज कुमार जो मधुबनी जिला के घोघरडीहा थाना क्षेत्र के नौआबाखर गांव का निवासी है।

खबरें और भी हैं...